संजीवनी टुडे

आप नहीं जानते होंगे कछुए की अंगूठी के लाभ, जानें पहनने का सही तरीका

संजीवनी टुडे 28-07-2019 13:30:21

कछुए वाली अंगूठी को पहनने के पीछे बहुत सारी आम धारणाएं हैं। ऐसा माना जाता है के जो व्यक्ति इसे धारण करता है उसके पास कभी धन की कमी नहीं होती, भगवान विष्णु की कृपा दृष्टि हमेशा बानी रहती है इसको धारण करने से आपके जीवन में कई लाभ होते हैं।


डेस्क। कछुए वाली अंगूठी मानव अपनी बॉडी पर पहन सकता है। इनको पहनने से न सिर्फ आप खूबसूरत दीखते हैं बल्कि आपके जीवन में भी सकात्मक प्रभाव आते हैं। कछुए वाली अंगूठी को पहनने के पीछे बहुत सारी आम धारणाएं हैं। ऐसा माना जाता है के जो व्यक्ति इसे धारण करता है उसके पास कभी धन की कमी नहीं होती, भगवान विष्णु की कृपा दृष्टि हमेशा बानी रहती है इसको धारण करने से आपके जीवन में कई लाभ होते हैं। आज बहुत से लोग कछुए की अंगूठी को धारण करते हैं लेकिन इसको धारण करने की सही विधि नहीं जानते हैं। इसी कारण वे इसके पूरे लाभ नहीं ले पातें। आइये हम आपको बताते हैं इसको धारण करने की सही विधि तथा इसके के लाभों के बारे में।


कछुए की अंगूठी के लाभ:

-दरअसल कछुए वाली अंगूठी को वास्तुशास्त्र के भीतर शुभ माना गया है। यह अंगूठी व्यक्ति के जीवन के कई दोषों को शांत करने का काम करती है। लेकिन यदि सबसे अधिक यह किसी बात में सहायक होती है तो वह इसकी वजह से ‘आत्मविश्वास में हो रही बढ़ोत्तरी’।

tf

-कछुआ शांति और धैर्य का प्रतीक भी माना जाता है। इसकी अंगूठी को धारण करने वाले के अंदर शांति तथा धैर्य जैसे से अच्छे गुणों की बृद्धि होती है।

-कछुए की अंगूठी को घर में रखने से घर का वास्तु दोष ख़त्म हो जाता है तथा नकारात्मकता का भी अंत होता है। 

-कछुए को हिंदू धर्म में देवी लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है। अतः इसकी अंगूठी को घर में रखने से घर में धन लाभ होता रहता है।

tf
कछुए की अंगूठी पहनने की विधि: 

कछुए की अंगूठी आज बहुत से स्त्री और पुरुष पहने दिखाई पड़ते हैं। लेकिन सही विधि तथा सही धातु से निर्मित अंगूठी न पहनने के कारण वे इसका पूरा लाभ नहीं ले पाते हैं। यही कारण है की आज हम आपको इस बारे में ही जानकारी दे रहें हैं।

आपको सबसे पहले बता दें की कछुए की अंगूठी को चांदी की धातु में ही निर्मित कराना चाहिए। 

-इस बात का भी आप ध्यान रखें की इस अंगूठी को सदैव दाएं हाथ में ही पहना जाता है। यदि आप बाएं हाथ में इसको धारण करते हैं तो इसका लाभ आपको नहीं मिलता है। इसके अलावा इस बात का भी ध्यान रखे की इसको सिर्फ बीच की अंगुली तथा तर्जनी अंगुली में ही पहना जाता है। 

tftf

-जब आप इसको पहने टॉम इस बात का ध्यान रखे की अंगूठी के कछुयें का सिर बाहर की और निकला हुआ होना चाहिए। इस प्रकार से पहनी गई कछुए की अंगूठी ही आपको अपना पूरा लाभ देती है।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166 

 

More From lifestyle

Trending Now
Recommended