संजीवनी टुडे

क्यों आते हैं महिलाओं के अनचाही जगह बाल, जानिए वजह

संजीवनी टुडे 20-04-2019 02:20:00


डेस्क। आपको बता दे की महिलाओ के चेहरे, ठोड़ी, अंडरआर्म्स और अन्य हिस्सों में अनचाहे बाल महिलाओं की एक आम समस्या है। लेकिन जब महिलाओं के चेहरे व शरीर के अन्य हिस्सों पर पुरूषों की तरह दाढ़ी-मूछें आने लगे तो यह गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है। आइए जानते है।  

हिर्सुटिज़्म
 

हिर्सुटिज़्म महिलाओं में अनचाहे, पुरुष-पैटर्न वाले बाल विकास की स्थिति को कहते है। इसमें शरीर की उन जगहों पर बाल होते हैं जहां पर आमतौर पुरुष के बाल बढ़ते हैं जैसे छाती, ठुड्डी, चेहरा और पीठ।

ु

हिर्सुटिज़्म के कारण

शरीर में हार्मोन्स बदलाव या किसी एंड्रोजन हार्मोन (मेल हार्मोन) का स्तर बढ़ने के कारण महिलाओं में यह समस्या देखने को मिलती है। इसके अलावा इस बीमारी के कुछ और कारण भी हो सकते हैं, जिसमें रो‍मछिद्रों की संवेदनशीलता भी एक है। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

अनुवांशिक कारण

हिर्सुटिज़्म की बीमारी फैमिली हिस्ट्री के कारण भी हो सकती है। अगर परिवार में पहले ही किसी को आगे यह बीमारी है तो उनसे यह बीमारी आगे भी हो सकती है।

ु

दवाओं के कारण

दरअसल, कुछ दवाइयां ऐसी होती हैं, जिनका सेवन शरीर में एंड्रोजन हार्मोन का स्तर बढ़ा देता है। वहीं कई बार दवाइयों से हार्मोन्स का बैलेंस बिगड़ जाता है, जोकि इस बीमारी का कारण बनता है।

ु

गर्भावस्था और मेनोपॉज

गर्भावस्था और मेनोपॉज के दौरान भी महिलाओं के शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिसके कारण इस बीमारी के होने के चांसेस बढ़ जाते हैं। हालांकि ऐसा काफी कम मामलों में ही होता है।

ु

हिर्सुटिज़्म के लक्षण

आमतैर पर इस बीमारी में महिलाओं के चेहरे, सीने और पीठ के पीछे बाल उगने लगते हैं, जो छोड़े कठोर भी होते हैं। यह देखने में भी काफी भद्दे लगते हैं।

ु

ऊपरी होठों, निचले जबड़े, गर्दन, पेट व छाती पर बाल उगना

जांघों में बालों का आना
स्तनों का आकार बहुत छोटा होना
चेहरे पर बहुत अधिक मुंहासे आना
क्लोरिटस का बड़ा हो जाना
आवाज में भारीपन आ जाना

MUST WATCH & SUBSCRIBE

इलाज

आमतौर पर डॉक्टर इस बीमारी को कंट्रोल करने के लिए महिलाओं को बर्थ कंट्रोल पिल्स देते हैं, जिससे शरीर में बनने वाले मेल हार्मोन्स का लेवल कम होता है। मगर बिना डॉक्टर की सलाह लिए इन दवाइयों का सेवन ना करें। इसके अलावा लेजर तकनीकी ट्रीटमेंट द्वारा भी इन समस्या को दूर किया जा सकता है।

More From lifestyle

Loading...
Trending Now
Recommended