संजीवनी टुडे

सावन के महीने में नव विवाहिताएं क्यों जाती है मायके, जानिए वजह

संजीवनी टुडे 17-07-2019 11:34:25

सावन आते ही त्यौहार शुरू हो जाते है। सावन के महीने में होने वाले पर्व त्यौहार कजरी तीज हरियाली तज मधुश्रावणी नाग पंचमी जैसे त्यौहार मनाए जाते हैं। लेकिन सबसे अलग ये बात होती है जिन लड़कियों का रिश्ता तय हो जाता है उनके लिए यह त्यौहार सबसे बडा होता है।


डेस्क। आज से सावन का महीना शुरू हो चुका है। सावन आते ही त्यौहार शुरू हो जाते है। सावन के महीने में होने वाले पर्व त्यौहार कजरी तीज, हरियाली तीज, मधुश्रावणी, नाग पंचमी जैसे त्यौहार मनाए जाते हैं। लेकिन सबसे अलग ये बात होती है जिन लड़कियों का रिश्ता तय हो जाता है उनके लिए यह त्यौहार सबसे बडा होता है। क्योंकि लडकी के ससुराल से सिंजारा यानी श्रृंगार का पूरा सामान आता है। लेकिन नव विवाहिताएं इस महीने में अपने पीहर चली जाती है। आपने सोचा है कि आखिर ऐसा क्यों होता है तो हम बताते है, आइए जानते है।

 भारतीय संस्कृति के रीति-रिवाज के मुताबिक, भगवान शिव के लिए सावन का महीना काफी अप्रिय है। इस महीने का संबंध पूर्ण रूप से शिव जी से माना जाता है। इसी महीने में समुद्र मंथन हुआ था और भगवान शिव ने हलाहल विष का पान किया था। हलाहल विष के पान के बाद उग्र विष को शांत करने के लिए भक्त इस महीने में शिव जी को जल अर्पित करते हैं। इस पूरे महीने में लोग भगवान शिव की जमकर अराधना करते हैं। 

ASAA

इस पूरे महीने में चारों ओर भोलेनाथ के नाम की गूंज रहती है। शिव भक्तों के लिए यह महीना एक बड़े त्योहार की तरह होता है। इस महीने में लोग व्रत करते हैं, शिव की पूजा करते हैं और ज्योतिष उपायों से अपने भविष्य को संवारने की कोशिश करते हैं।

हालांकि ऐसी मान्यता है कि सावन के महीने में नवविवाहिता स्त्रियों को अपने मायके भेज दिया जाता है। धार्मिक और लोकमान्यताओं के अनुसार ऐसा करने से पति की आयु लंबी होती है और दांपत्य जीवन खुशहाल रहता है।

धार्मिक मान्यताओं को आयुर्वेद भी स्वीकार करता है लेकिन इसका अपना वैज्ञानिक मत है। आयुर्वेद के अनुसार सावन के महीने में मनुष्य के अंदर रस का संचार अधिक होता है जिससे काम की भावना बढ़ जाती है। मौसम भी इसके लिए अनुकूल होता है जिससे नवविवाहितों के बीच अधिक सेक्स संबंध से उनके स्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ सकता है।

ASAA

वहीं आयुर्वेद में लिखा है कि इस महीने में गर्भ ठहरने से होने वाली संतान शारीरिक और मानसिक रूप से कमजोर हो सकती है। इसलिए ही भारतीय संस्कृति में पर्व त्योहार की ऐसी परंपरा बनाई गई है ताकि सावन के महीने में नवविवाहित स्त्रियां मायके में रहे।

इसके साथ ही सावन के महीने में शिव की पूजा के पीछे भी यही कारण है कि व्यक्ति काम की भावना पर विजय पा सके। भगवान शिव काम के शत्रु हैं।

विशेषज्ञ भी मानते हैं कि सावन के महीने में पुरुषों को ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए शुक्राणुओं का संरक्षण करना चाहिए।

ASAA

कामदेव ने सावन में ही शिव पर काम का बाण चलाया था, जिससे क्रोधित होकर शिव जी ने कामदेव को भस्म कर दिया था।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166 

 

More From lifestyle

Trending Now
Recommended