संजीवनी टुडे

मिट्टी के बर्तन में खाना पकाने के फायदे जानकर आप भी कुकर को कहेंगे बाय-बाय

संजीवनी टुडे 23-10-2019 11:37:01

कई हजार साल से मिट्टी के बर्तनों का इस्तेमाल किया जाता रहा है क्योंकि मिट्टी के बर्तनों में खाना पकाने से ऐसे पोषक तत्व मिलते हैं जो हर बीमारी को शरीर से दूर रखते थे।


डेस्क। आज इस आधुनिक दुनिया में खाना बनाने के लिए जिन बर्तनों जैसे एल्यूमिनियम का भगोना और कूकर, का यूज़ किया जाता है वे सारी चीजें भी केवल आपको बीमार कर रही हैं। आज भले ही साइंस ने कितनी भी तरक्की क्यों न कर ली हो, लेकिन फिर भी कुदरत से जुड़ी चीजें और उनसे होने वाले लाभ का लोगों को साइंस द्वारा बनाई गईं चीजों से कहीं ज्यादा लाभ होता है। जो उनके स्वास्थ्य को खूब लाभ पहुंचाता है। कई हजार साल से भारत में मिट्टी के बर्तनों का इस्तेमाल किया जाता रहा है क्योंकि मिट्टी के बर्तनों में खाना पकाने से ऐसे पोषक तत्व मिलते हैं, जो हर बीमारी को शरीर से दूर रखते थे। तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं, मिट्टी के बर्तनों के प्रयोग से होने वाले लाभकारी फायदों के बारे में खास।

 ये खबर भी पढ़े: कान की हर समस्या का अचूक इलाज है लहसुन, जानिए कैसे

-जिंदगी भर स्वस्थ रहना है तो प्रेशर कुकर में खाना बनाने के बजाय मिट्टी की हांडी में खाना बनाकर खाएं। आयुर्वेद के अनुसार खाना पकाते समय उसे हवा का स्पर्श मिलना बहुत ही जरूरी होता है। लेकिन प्रेशर कुकर की भाप से खाना पकता नहीं है बल्कि उबलता है। खाना धीरे-धीरे ही पकना चाहिए। मिट्टी के बर्तनों में खाना थोड़ा धीमा बनता है पर सेहत को बहुत ही ज्यादा फायदा मिलता है। इंसान के शरीर को रोज 18 तरह के सूक्ष्म पोषक तत्व भी मिलने चाहिए। जो केवल मिट्टी से ही आते हैं। कैल्शियम, मैग्निशियम, सल्फर, आयरन, सिलिकॉन, कोबाल्ट।

lifestyle

-हालांकि मिट्टी के बर्तनों में खाना पकाने में थोड़ा समय ज्यादा अवश्य लगता है लेकिन स्वाद के मामले में मिट्टी के बर्तनों में पके खाने का कोई भी जवाब नहीं। प्रेशर कुकर में बनाए खाने की तुलना में मिट्टी के बर्तनों में पकाया गया खाना काफी स्वादिष्ट होता है। अगर आपको खाने में सौंधी-सौंधी खुशबु पसंद है, तो मिट्टी के बर्तन में पका हुआ खाना आपको एक अलग स्वाद का अनुभव अवश्य करवाएगा।

lifestyle

खासकर होती है माइक्रो न्यूट्रियंट्स की मात्रा...

-स्वादिष्ट बनने के साथ मिट्टी के बर्तनों में पकी दाल में माइक्रो न्यूट्रियंट्स भी लगभग 100 प्रतिशत रहते हैं जबकि प्रेशर कुकर में पकाई दाल में 87 प्रतिशत पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं। पीतल के बर्तन में बनाने से केवल 7 प्रतिशत पोषक तत्व नष्ट होते हैं। कांसे के बर्तन में बनाने से केवल 3 प्रतिशत ही पोषक तत्व पूरी तरह नष्ट होते हैं। अगर आप भी अपने स्वास्थ्य को नेचुरल तरीके से रखना चाहते हैं बीमारियों से दूर तो घर में जरुर करें मिट्टी के बने बर्तनों का इस्तेमाल। 

lifestyle
-हालांकि मिट्टी के बर्तनों में खाना पकाने में थोड़ा समय ज्यादा अवश्य लगता है। लेकिन मिट्टी के बर्तन में खाना स्वादिष्ट भी बनता है। क्योंकि इसमें बने खाने में मिट्टी की सौंधी-सौंधी खुशबू आ जाती है जो आपको एक अलग स्वाद का अनुभव देती है। इसलिए कम से कम दाल और सब्जी मिट्टी के बर्तन में जरूर बनाकर खाएं। 

मात्र 2500/- प्रति वर्गगज में फार्म  हाउस अजमेर रोड, जयपुर  में 9314188188

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From lifestyle

Trending Now
Recommended