संजीवनी टुडे

युवाओं को नपुंसक बना रही है यह लत, जाने वरना पड़ेगा महंगा

संजीवनी टुडे 12-03-2019 09:07:56


डेस्क। क्या आपको अपनी हर फिक्र, हर टेंशन को सिगरेट के धुएं में उड़ा देने की आदत है? या फिर सिगरेट पीना आपके लाइफ-स्टाइल का एक अहम हिस्सा है?अगर ऐसा है तो आप हो जाइए सावधान, क्योंकि सिगरेट की आदत पड़ सकती है भारी। 

मात्र 4.25 लाख में प्लॉट जयपुर आगरा रोड पर 9314301194

आपको बता दें कि धूम्रपान की लत की वजह से दिल के दौरे, लकवा, दमा, कैंसर, और खासकर फेफड़ों का कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का खतरा कई गुना बढ़ जाता है इनके अलावा स्मोकिंग, लोगों को नपुंसकता यानी इन्फर्टिलिटी की ओर भी तेजी से ले जा रही है। इस समस्या की चपेट में युवा भी तेजी से आ रहे हैं। किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी  के यूरॉलजी विभाग की एक स्टडी में इसका खुलासा हुआ है। स्टडी के मुताबिक, स्मोकिंग के कारण युवाओं में स्पर्म काउंट कम होने के साथ स्पर्म की गुणवत्ता भी कम हो रही है। विभाग में ऐसे मरीजों की संख्या में दो साल में दोगुने का इजाफा हुआ है। 

AAAA

यूरॉलजी विभाग के हेड प्रफेसर एस एन शंखवार ने बताया कि 2012 से 2018 तक चली यह स्टडी 150 मरीजों पर की गई। स्टडी में सामने आया कि स्मोकिंग करने से इनकी कोशिकाएं डैमेज हो रही हैं, जिनसे फ्री रैडिकल निकलते हैं। ये फ्री रैडिकल अन्य कोशिकाओं को डैमेज करते हैं, जिससे धमनियां सिकुड़ने लगती हैं और इनका लचीलापन कम होता जाता है। इसका सीधा असर स्पर्म काउंट पर पड़ता है और ये जल्दी खराब भी हो जाते हैं। 

शुक्राणुओं पर पड़ता है असर

>एक रिपोर्ट के मुताबिक सिगरेट की आदत पुरुषों के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकती है क्योंकि लगातार सिगरेट पीने की वजह से पुरुषों की मर्दानगी कम होने लगती है। 
>सिगरेट की आदत पुरुषों की प्रजनन क्षमता को काफी हद तक प्रभावित करती है और जरूरत से ज्यादा सिगरेट पीने की आदत नपुंसकता के खतरे को बढ़ा देती है। 

>ऐसा भी माना जा रहा है कि गर्भधारण के दौरान या उसके पहले जो माता-पिता सिगरेट पीते हैं, उन्हें लड़की पैदा होने की संभावना ज्यादा होती है। 

>एक नए शोध से पता चला है कि सिगरेट पीने से पुरुषों के शुक्राणुओं को नुकसान पहुंचता है, जो पत्नी के गर्भाशय में नर भ्रूण को रुकने नहीं देता। 

AA

>सिगरेट पीने से पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में कमी आ सकती है और शुक्राणुओं का डीएनए तक पूरी तरह से नष्ट हो सकता है। 

>सिगरेट पीने वाले पुरुषों में न केवल शुक्राणुओं का स्तर घट सकता है, बल्कि उनमें कुछ प्रोटीनों की कमी भी हो सकती है। 

>सिगरेट पीने की वजह से हमारे शरीर में रक्त के प्रवाह में बाधा आने लगती है जिससे हमारे अंगों तक ऑक्सीजन काफी मुश्किल से पहुंच पाता है, इस वजह से व्यक्ति की उत्तेजन क्षमता में कमी आती है। 

                                                                                                            AA

बहरहाल सिगरेट की आदत आसानी से इंसान का पीछा नहीं छोड़ती। 

लेकिन अगर वाकई में आप अपनी मर्दानगी बरकरार रखना चाहते हैं तो सिगरेट की लत को हमेशा के लिए अलविदा कहना पड़ेगा। और समझदारी इसी में है कि कल पर टालने के बजाय आज ही सिगरेट छोड़ने की कोशिश की जाए। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग में स्मोकिंग जैसी बुरी आदत से छुटकारा दिलवाने के लिए धूम्रपान निषेध क्लिनिक चलाया जा रहा है। यहां के डॉ. आर ए एस कुशवाहा ने बताया कि हर दिन ओपीडी से 100 से अधिक लोगों को क्लीनिक में भेजा जाता है। इसमें दो तरह से दवाइयों और काउंसलिंग के जरिए इलाज होता है। लगभग 5% लोगों पर ही दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है, बाकी की स्मोकिंग काउंसलिंग के जरिए छुड़वाई जाती है। 

More From lifestyle

Trending Now
Recommended