संजीवनी टुडे

अगर आपको भी आते है खर्राटे तो जानिए छुटकारा पाने के उपाय

संजीवनी टुडे 10-12-2019 13:01:00

यह आवाज सोने के बाद किसी भी समय शुरू और बंद हो सकती है। खर्राटे समस्या के कारण आसपास के सभी लोग परेशान होते हैं। खर्राटे की समस्या लगती तो नोरमल है परतु ये समस्या कब गंभीर हो जाती है


डेस्क। खर्राटा नींद से संबंधित एक समस्या है। खर्राटों की आवाज नाक या मुंह, किसी से भी आ सकती है। यह आवाज सोने के बाद किसी भी समय शुरू और बंद हो सकती है। खर्राटे समस्या के कारण आसपास के सभी लोग परेशान होते हैं। खर्राटे की समस्या लगती तो नोरमल है परतु ये समस्या कब गंभीर हो जाती है पता ही नहीं लगता है। इसी कारण इस खर्राटे की बीमारी का समय पैर ही इलाज हो जाना बेहतर है। यह जरा सही बीमारी कई बीमारियों को जन्म देती है। खर्राटे एक एक ऐसी बीमारी है जो सामान्य जीवन में हमे शर्मिंदा होना पड़ता है। आइए जानते हैं खर्राटे की समस्या समाप्त के घरेलू उपाय..... 

ये खबर भी पढ़े: ये घरेलू नुस्खे दिलाएंगे गर्दन के कालेपन से छुटकारा, आप भी करें ट्राई

lifestyle

खर्राटे से छुटकारा पाने के उपाय: 
 
-खर्राटे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए हल्दी वाला दूध का इस्तेमाल करें। हल्दी में एंटी-सेप्ट‍िक और एंटी-बायोटिक गुण होते हैं। इसके इस्तेमाल से नासा-द्वार साफ हो जाता है जिससे सांस लेना आसान हो जाता है। रोज रात को सोने से पहले दूध में हल्दी पकाकर (हल्दी वाला दूध) पीने से फायदा होगा। 

-खर्राटे की समस्या के लिए नहाने से बाद और सोने से पहले नाक में सरसों के तेल की 2-3 बूंदें डाल लें।

lifestyle

-पुदीने में कई ऐसे तत्व होते हैं जो गले और नाक के छेदों की सूजन को कम करने का काम करते हैं। इससे सांस लेना आसान हो जाता है। सोने से पहले पिपरमिंट ऑयल की कुछ बूंदों को पानी में डालकर गरारा कर लें। इस उपाय को कुछ दिन तक करते रहें। फर्क आपके सामने होगा।

-खर्राटों के आने की एक प्रमुख वजह आपके सोने के तरीक़े पर निर्भर करती है। खर्राटे की समस्या के लिए पीठ के बल सोने के बजाय करवट लेकर सोएं और सिर को थोड़ा ऊंचा रखें। इससे सांस की नली में रुकावट नहीं होती।

lifestyle

-खर्राटे जीभ के मोठे होने से भी आते है। इसी कारण आपको अपनी जीभ को नियमित रूप से साफ रखना चाहिए। इसके लिए ब्रश करते समय टंग क्लीनर का उपयोग कर सकते है।

-खर्राटे सांस की समस्या से भी आते है, जिसके लिए एक्सरसाइज भी एक बेहतर इलाज है।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From lifestyle

Trending Now
Recommended