संजीवनी टुडे

अगर आप पैर क्रॉस करके बैठते है तो हो जाइये सावधान, वरना जल्द हो जाएंगे बूढे

संजीवनी टुडे 08-08-2019 14:55:32

मर्दो के लिए क्रॉस पैर करके बैठना शायद आम न हो लेकिन महिलाओं के लिए बैठने का यह तरीका फेमिनिन माना जाता है। ऐसा करने से उनको लगता है कि वे स्टाइल व आराम से बैठे है, अगर आप भी बैठने के लिए यही उपाय अपनाते है


डेस्क। आपने कई लोगो पैरों को क्रॉस करके बैठते हुए जरूर देखा होगा। मर्दो के लिए क्रॉस पैर करके बैठना शायद आम न हो लेकिन महिलाओं के लिए बैठने का यह तरीका फेमिनिन माना जाता है। ऐसा करने से उनको लगता है कि वे स्टाइल व आराम से बैठे है, अगर आप भी बैठने के लिए यही उपाय अपनाते है तो आप गलत है। क्योकि बैठने का ये उपाय आपको बीमारियों की तरफ ले जा रहा है। अगर आप नहीं जानते हैं तो हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह से आप बीमारी की चपेट में आ सकते हैं।  

यह खबर भी पढ़े:महिलाएं ब्लाउज पहनते समय रखें इन विशेष बातों का ध्यान

रक्तचाप का बढ़ना: कई स्टडीज में यह बात साबित हो चुकी है कि ज्यादा समय तक पैरों को क्रॉस करके बैठने से ब्लड प्रेशर काफी हद तक बढ़ जाता है। आपने देखा होगा कि जब कोई डॉक्टर आपके रक्तचाप की जांच करता है, तो वह आपको बिना पैरों और बाहों के फ्लैटों के साथ बैठने के लिए कहता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एक आरामदायक मुद्रा रक्तचाप को सामान्य स्तर पर ला सकती है और इसे ठीक से जांचने में मदद करती है। 

dfg

गर्दन और पीठ दर्द: इस तरह बैठने से पेल्विक बोन में से एक का रोटेशन प्रभावित होता है। यह बोन रीढ़ की हड्डी का आधार है,इस पर दबाव पड़ने से गर्दन और पीठ के निचले हिस्से पर भी दवाब पड़ने लगता है। आपको भी इसी तरह की कोई दिक्कत है तो ध्यान दें कि कहीं इसके पीछे की वजह गलत तरीके से बैठना तो नहीं।

dfg

नर्व पैरालिसिस का खतरा:पैरों को पार करना आपके घुटने के पीछे परोनियल तंत्रिका पर दबाव डालता है  अगर आप ज्यादा समय तक पैरों को क्रॉस करके बैठते हो तो इससे आपके पैरों की नसों को नुकसान पहुंच सकता है। क्योंकि ऐसे बैठने पर पैरों की नसों पर प्रेशर बढ़ जाता है जिस वजह से नसों के डेमेज होने का खतरा रहता है। इतना ही नहीं बल्कि इस पोस्चर में बैठने से व्यक्ति पेरोनोल नर्व पैरालिसिस का शिकार भी हो सकता है।

dfg

जल्द हो जाएंगे बूढे: अगर आप जल्दी बूढ़े नहीं दिखना चाहते हैं तो क्रॉस पैर करके बैठना भूल जाइए। एक टांग पर दूसरी टांग रख कर बैठने पर जांघों की मसल्य भी प्रभावित होती हैं, जिससे ज्वॉइंटस में परेशानी आ सकती है। यही नहीं, इससे कूल्हों और कमर में भी परेशानी हो सकती है।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166 

 

More From lifestyle

Trending Now
Recommended