संजीवनी टुडे

अगर आप अपनी बेटी को पढ़ाई के लिए भेज रहे है दूर तो ये खबर जरूर पढ़े

संजीवनी टुडे 27-07-2019 11:31:45

हर माँ-बाप का सपना होता हैं कि उनकी बेटी पढ़-लिखकर कामयाब बने और उनका नाम रोशन करें। इसलिए ही मात-पिता मन मारकर भी अपनी बेटियों को दूर पढने के लिए भेजते हैं। कइयों का सपना परवान चढ़ जाता है और कइयों का अधूरा रह जाता है।


डेस्क। हर माँ-बाप का सपना होता हैं कि उनकी बेटी पढ़-लिखकर कामयाब बने और उनका नाम रोशन करें। इसलिए ही मात-पिता मन मारकर भी अपनी बेटियों को दूर पढने के लिए भेजते हैं। कइयों का सपना परवान चढ़ जाता है और कइयों का अधूरा रह जाता है। सपना अधूरा रहने के पीछे सही जानकारी न होना, गलत कॉलेज चुनना या फिर पैसे की कमी जैसे कोई भी वजह हो सकती है। लेकिन आज के समय के माहौल को देखते हुए वे अपनी बेटी के लिए हमेशा फिक्रमंद रहते हैं। इसलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे टिप्स लेकर आए हैं जिनकी मदद से आप अपनी बेटियों को सुरक्षित और सहज महसूस करवा सकते हैं। तो आइये जानते हैं उन सावधानियों के बारे में जो माता-पिता को अपनी बेटी के लिए बरतनी चाहिए।


-बच्चों को अच्छी बुरी के बातों के बीच फर्क बताना जरूरी है लेकिन उन पर अपनी राय थोपना गलत है। जब आप उनकी हर बात पर अपनी राय थोपेंगे तो वह बहुत-सी बातों को आप छीपाएगी। जो उसके लिए बाद में परेशानियां खड़ी कर सकती हैं।

ded

-इस बात को सुनिश्चित करें की उसकी संगत अच्छी हो। अपने बच्चे ही नहीं बल्कि उनके दोस्तों से भी दोस्ती बनाएं। आपको उनके दोस्तों के बारे में पता होना जरूरी है वह पूरा दिन कौन से दोस्तों के साथ रहती है इस बात की पूरी जानकारी होनी चाहिए। 

- लड़कियों को कभी भी कमजोर या अकेला महसूस न होने दें। बेटियों को आत्मरक्षा करने के लिए तरीके बताएं। आजकल तो बहुत से स्कूलों और कॉलजों में बच्चों को कराटे और बहुत-से ऐसे टिप्स बताए जाते है जिनसे वह अकेली होने पर अपनी रक्षा कर सके।

ded

-कुछ मां- बाप की सोच है कि मोबाइल फोन से बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। वह पढ़ना- लिखना छोड़ देंगे और पूरा दिन सिर्फ मोबाइल फोन पर ही लगे रहेंगे लेकिन बेटियों के पास मोबाइल फोन होना जरूरी है। वह कहीं बाहर गई हो और घर वापसी में लेट हो जाए तो आपको फोन करके बता सकती हैं। इसके अलावा अगर कभी कोई मुसीबत आती है तब भी वह आपको फोन कर सकती हैं।

ded
-बच्चों को स्पेस देना भी जरूरी है हर वक्त उनके पीछे परछाई की तरह लगने रहने से वह परेशान हो जाएगी। इससे आपका बच्चा धीरे- धीरे आप से दूर होता चला जाएगा और कभी आप पर भी भरोसा नहीं करेगा। खुद का भरोसा बच्चे पर बनाने के लिए कुछ समय उसे अकेले भी समय बिताने का मौका दें ताकि उन्हें पता चल सके कि क्या सही है और क्या गलत।

ded

-बच्चों का दोस्त बनना बहुत जरूरी है अगर आप उनके साथ दोस्तों जैसा व्यवहार करेंगे तो वह खुल कर आप से हर बात शेयर कर पाएंगे। जब आपको उसके बारे में हर बात पता होगी तो आप अपनी बच्ची को परेशानियों से बचा सकते हैं।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From lifestyle

Trending Now
Recommended