संजीवनी टुडे

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाएं जरूर करें ये योगासन, जच्चा बच्चा दोनों रहेंगे स्वस्थ

संजीवनी टुडे 14-08-2019 11:51:16

गर्भावस्था में भी योग महिलाओं के काफी फायदेमंद होता है।गर्भावस्था में स्वस्थ्य रहना बहुत जरुरी है ऐसे में महिलाओं को योग को अपनी दिनचर्या में जरुर शामिल करना चाहिए। गर्भावस्था के बाद महिलाओं के ब्रेन ब्रैस्ट और भी कई पार्ट्स में हार्मोनल चेंजेस आने लगते हैं |


डेस्क। ये तो आप जानते ही हैं की योगा हमारे लिए कितना फायदेमंद होता है। योगा  ना सिर्फ शारिरिक विकास में मदद करता है बल्कि इससे मानसिक विकास में भी काफी मददगार होता है। गर्भावस्था में भी योग महिलाओं के काफी फायदेमंद होता है।गर्भावस्था में स्वस्थ्य रहना बहुत जरुरी है ऐसे में महिलाओं को योग को अपनी दिनचर्या में जरुर शामिल करना चाहिए। गर्भावस्था के बाद महिलाओं के ब्रेन, ब्रैस्ट और भी कई पार्ट्स में हार्मोनल चेंजेस आने लगते हैं | इससे महिलाओं को कुछ अजीब महसूस होता है | गर्भावस्था के दौरान अगर जीवनशैली में योग को शामिल कर लिया जाए तो गर्भावस्था के दौरान बच्चे को स्वस्थ रखने और परेशानियों से बचे रहने में सहूलियत होगी | इतना ही नहीं गर्भावस्था के दौरान किया गया योग डिलीवरी को भी आसान बना देता है | आज हम उन्हीं बातों से गर्भवती महिलाओं को अवगत करा हैं जिसमें कुछ आसन बताए जा रहें हैं। जिसको करने के बाद गर्भवती महिलाएं काफी फायदा उठा सकती है।

यह खबर भी पढ़ें: दूध और गुड़ से कई बीमारियां हो जाती है छूमंतर, जानें इस्तेमाल करने का तरीका

पर्वतासन: इस आसन को करने से कमर दर्द से राहत मिलती है और डिलीवरी के बाद वजन भी ज्यादा नहीं बढ़ता।  अगर महिला गर्भवती है और वह बाहर घूमने नहीं जाती है, एक जगह बैठी रहती है तो यह आसन उसके शरीर में एनेर्जी को यूटीलाइज करने में मददगार होगा | इससे आपके कन्धों में होने वाले दर्द से भी आराम मिलाता है |

dh

इस आसन को करने के लिए पहले सुखासन में आराम से बैठे। पीठ को सीधा रख कर सांस को अंदर खींच कर दोनों हाथों को नमस्ते की मुद्रा में जोड़ लें। कुछ समय तक इस अवस्था में रहें और थोड़ी देर में सामान्य हो जाएं। इस आसन को 2-3 बार से ज्यादा न करें।

कोणासन: यह आसन गर्भावस्था के दौरान हो रहे कमर दर्द से छुटकारा दिलाने में मददगार होगा | इतना ही नहीं डिलीवरी होने के बाद महिलाओं के वजन में काफी इजाफा हो जाता है | इस आसन की मदद से फैट को कंट्रोल किया जा सकता है | यह आसन करने से गर्भावस्था के दौरान प्रसव में आसानी होगी | ध्यान रहे इस आसन को आप गर्भ के बाद सात महीने तक ही यूज कर सकती हैं |

dhdh

वक्रासन: इस आसन को करने से स्पाइनल कार्ड मजबूत होता है | यह बैकबोन के दर्द से आराम दिलाता है | इसके अलावा भी इस आसन को करने से हमारे शरीर के कई आन्तरिक अंग जैसे लीवर किडनी आदि के कार्य शक्ति को भी बढ़ाता है |

इस आसन को करने के लिए सबसे पहले आप सीधे नाक की सीध में रखते हुए पैरों को फैलाकर बैठे। अब सांस अंदर की ओर लेते हुए अपने दोनों हाथों को कंधे की सीध में फैलाएं, हथेलियों का मुंह नीचे की ओर रखें। अब सांस छोड़ते हुए कमर से ऊपर के भाग को जितना मोड़ सकें, उतना मोड़ें। अधिक खीचाव न लें। फिर सांस लेते हुए सामान्य अवस्था में आएं। अब इस विधि को दूसरी दिशा में कमर मोड़ते हुए एक बार और दोहराएं और फिर सामान्य मुद्रा में आ जाएं।

dh

भद्रासन: इस आसन की मदद से गर्भवस्था के दौरान आपके पाँव को काफी हद तक आराम मिल सकता है | भद्रासन करने से पेट में शिशु होने के चलते पाँव में भार के कारण हो रहे दर्द को कम किया जा सकता है | डॉक्टर्स भी इस आसन को करने के सलाह देते हैं |

dh

स्तिकासन : अगर आप शरीर को पूरी तरह से स्ट्रेच करना चाहती हैं तो इस आसन को एक बार जरूर ट्राई करें | तनाव को दूर करने और दिमाग को फ्रेश करने में यह आसन काफी मददगार है | इस आसन की मदद से गर्भवती महिला अपने तनाव को दूर कर अपना और अपने बच्चे का ख़याल अच्छी तरह से रख सकती हैं | 
 
कुछ सावधानियाँ भी हैं जरूरी:

-गर्भ के सांतवे महीने के बाद किसी भी आसन को करना वर्जित है इससे पेट में पल रहे शिशु पर बुरा प्रभाव होगा|

-अगर इन आसनों को करने से आपके पेट में दर्द उठता है तो आप इसे न करें |

-इस आसन को करने के पहले आप अपने हेल्थ के बारे में अच्छी तरह से जान लें | मतलब इस आसन का इस्तेमाल आप किसी अच्छे डॉक्टर की मदद से ही करें |

dhdh

-इन आसनों को करने के लिए आपको विशेषज्ञों का सहारा लेना चाहिए | खुद से यह आसन बिलकुल भी न करे |

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166 

More From lifestyle

Trending Now
Recommended