संजीवनी टुडे

पुरुष हो जाइए सावधान, हो रहे है इन घातक बीमारियों के शिकार, ऐसे करे बचाव

संजीवनी टुडे 16-06-2019 01:20:00

प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों की प्रोस्टेट ग्रंथि में होता है, जिसके शिकार 65 साल की उम्र से अधिक पुरुष ज्यादा होते हैं। इस कैंसर को साइलेंट किलर के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह धीरे-धीरे पनपता है, जिसके कारण पुरुषों को काफी बाद तक इसके बारे में पता नहीं चल पाता है


प्रोस्‍टेट कैंसर

प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों की प्रोस्टेट ग्रंथि में होता है, जिसके शिकार 65 साल की उम्र से अधिक पुरुष ज्यादा होते हैं। इस कैंसर को 'साइलेंट किलर' के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह धीरे-धीरे पनपता है, जिसके कारण पुरुषों को काफी बाद तक इसके बारे में पता नहीं चल पाता है। 

ु

लक्षण

बार-बार पेशाब आना
रात के समय ज्यादा पेशाब करना 
तेज दर्द या जलन के साथ पेशाब आना
कमर के नीचे के हिस्से में बहुत दर्द होना
पेशाब में खून आना
बहुत थकान महसूस होना
भूख ना लगना

हृदय रोग

सर्वे के मुताबिक, महिलाओं की तुलना में पुरुष ज्‍यादा मोटे होते हैं, जिसके चलते उन्हें दिल के रोगों का खतरा अधिक रहता है। दरअसल, मोटापे के कारण धमनियों में कोलेस्ट्राल बनने लगता है, जो खून कि जरिए दिल तक पहुंच जाता है और हाई ब्लड प्रैशर का कारण बनता है। हाई ब्लड प्रैशर दिल के लिए खतरनाक हो सकता है। 

ु

लक्षण

.सीने में बेचैनी
मतली, दस्त
कमजोरी और चक्कर आना
थोड़ा-सा काम करने पर थक जाना
अचानक सीने में दर्द होना
सांस लेने में तकलीफ
हार्टबर्न और पेट में दर्द
अधिक पसीना आना

लिवर सिरोसिस

अध्ययन में कहा गया है कि यकृत यानी लिवर की यह बीमारी पुरुषों की तुलना में महिलाओं में कम होती है। दरअसल, पुरुष महिलाओं की तुलना में अधिक शराब पीना, सॉफ्ट ड्रिंक, धूम्रपान, फास्टपूड, जंक फूड और प्रोसेस्ड फूड्स का सेवन करते हैं, जिनके चलते उन्हें इसका खतरा अधिक होता है।

ु


लक्षण

त्वचा का पीला या नीला पड़ना
भूख कम होना या मतली
नाक से खून बहना
अचानक वजन घटना
त्वचा में खुजली
शारीरिक कमजोरी और थकान
पैरों की सूजन

पार्किंसन रोग

पार्किंसन रोग सेंटर नर्वस सिस्‍टम का एक ऐसा न्‍यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है, जिसमें रोगी के बॉडी पार्ट कंपन करते रहते हैं। रिसर्च अनुसार महिलाओं की तुलना में पुरुषों को इस बीमारी से ग्रस्त होने की आशंका 1.5 गुना ज्यादा होती है। महिलाओं में इस बीमारी के कम होने का कारण एस्ट्रोजन हार्मोन का स्रावित होना है। 

ु

लक्षण

बिगड़ा हुआ पॉश्‍चर
जोड़ों में कठोरता आना
हाथ, बांह, टांगों, मुंह और चेहरे में कंपन
शरीर व मस्तिष्क के मध्य तालमेल बिगड़ना
चलने-फिरने में दिक्कत

क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज

सीओपीडी एक क्रोनिक इंफ्लामेट्री (COPD) लंग डिजीज है, जिसके कारण फेफड़ों तक ऑक्सीजन सही मात्रा में नहीं पहुंच पाती।

ु

लक्षण

सांस लेने में परेशानी
बलगम के साथ लगातार खांसी का होना
गले में खराश होना
सीने में जकड़न
लगातार सर्दी जुकाम होना, फ्लू, या अन्य सांस संबंधी इंफैक्शन होना
शारीरिक कमजोरी या थकान होना
अचानक वजन घटना
घुटनों में सूजन आना
खांसी में खून आना
सीने में जकड़न

बचाव करने के उपाए 

समय-समय पर हेल्थ चेकअप करवाएं क्योंकि अगर बीमारी का समय रहते पता चल जाए तो उसे ठीक किया जाता है। 
अक्सर काम के चक्कर में पुरुष अपनी सेहत पर ध्यान नहीं देते, जिसके चलते उन्हें बीमारियों का खतरा अधिक होता है इसलिए सबसे पहले अपनी डाइट पर ध्यान दें और हेल्दी चीजें खाएं। धूम्रपान और सिगरेट से दूरी बनाएं क्योंकि आपकी आधी से ज्यादा समस्याओं का कारण यही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From lifestyle

Trending Now
Recommended