संजीवनी टुडे

बंगाल पुलिस का दावा: मृत विधायक की जेब से मिला है सुसाइड नोट, दो लोगों को बताया है मौत की वजह

संजीवनी टुडे 13-07-2020 15:40:00

उत्तर दिनाजपुर के हेमताबाद से विधायक देवेंद्र नाथ रॉय की संदिग्ध मौत के मामले में पुलिस ने इशारे इशारे में इसे आत्महत्या करार देने की कोशिश की है।


कोलकाता। उत्तर दिनाजपुर के हेमताबाद से विधायक देवेंद्र नाथ रॉय की संदिग्ध मौत के मामले में पुलिस ने इशारे इशारे में इसे आत्महत्या करार देने की कोशिश की है।

 राज्य पुलिस की ओर से एक ट्वीट किया गया है जिसमें दावा किया गया है कि विधायक की शर्ट की जेब से एक सुसाइड नोट बरामद किया गया है। इसमें कथित तौर पर उन्होंने दो लोगों को अपनी मौत के लिए जिम्मेदार ठहराया है। हालांकि विधायक का परिवार और स्थानीय लोग पुलिस के इस दावे को मानने के लिए तैयार नहीं हैं। राज्य पुलिस की ओर से सोमवार दोपहर 12:46 पर एक ट्वीट किया गया है। इसमें लिखा गया है कि सोमवार सुबह उत्तर दिनाजपुर के बालिया देबेन मोड़ के पास एक मोबाइल दुकान के सामने तार से झूलते हुए विधायक का शव बरामद किया गया है। उनकी जेब से एक सुसाइड नोट मिला है जिसमें दो लोगों का नाम लिखा गया है। उन्होंने अपनी मौत के लिए इन्हीं दोनों को जिम्मेदार ठहराया है। 

 पुलिस की ओर से यह भी बताया गया है कि जांच की सारी प्रक्रियाएं चल रही हैं। स्निफर डॉग की मदद ली जा रही है। फॉरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची है। जिन लोगों का नाम सुसाइड नोट में है, उनसे भी पूछताछ जारी है। पुलिस हरेक दृष्टिकोण से जांच कर रही है।

पुलिस के दावे को मानने को तैयार नहीं स्थानीय लोग 
पुलिस के इस दावे को परिजनों ने खारिज कर दिया है। उनकी पत्नी चन्द्रमा रॉय ने कहा है कि देवेंद्र नाथ रॉय की हत्या की गई है। स्थानीय लोगों ने भी पुलिस के दावे पर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने सवाल पूछा है कि विधायक के घर से उस जगह की दूरी काफी अधिक है जहां फंदे से लटकता हुआ शव बरामद किया गया है। जिस रास्ते से उस जगह पर पहुंचा जा सकता है, वह सुनसान सड़क है। अगर विधायक को आत्महत्या ही करनी थी तो किसी सुनसान जगह पर करते। इतनी दूर जाकर भीड़ भाड़ वाली जगह पर आत्महत्या करने की क्या जरूरत थी? लोगों ने यह भी पूछा है कि आखिर विधायक का जब फंदे से लटकता हुआ शव बरामद किया गया है तो उनका हाथ क्यों बंधा है। अगर हाथ बंधा हुआ ही था पहले से तो उन्होंने खुदकुशी के लिए फंदा कैसे लगाया? और अगर फंदा लगाने के बाद वह मर गए थे तो हाथ कैसे बांधा? हालांकि पुलिस फिलहाल इन सवालों का जवाब नहीं दे रही है। 

रायगंज जिला पुलिस अधीक्षक सुमित कुमार ने इस बारे में बताया कि हर एक दृष्टिकोण से जांच हो रही है। उनकी जेब से जो सुसाइड नोट मिला है। उसमें जिन लोगों का नाम दर्ज है, उनसे पूछताछ की जा रही है। सुमित कुमार ने कहा कि फिलहाल किसी भी नतीजे पर अभी तब तक नहीं पहुंचा जा सकता, जब तक जांच पूरी ना हो जाए। 

यह खबर भी पढ़े: मध्यप्रदेश/ बैतूल जिले में कोरोना से पहली मौत, 90 वर्षीय वृद्धा ने उपचार के दौरान तोड़ा दम

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From kolkata

Trending Now
Recommended