संजीवनी टुडे

झारखंड आंदोलनकारियों के लिए इस साल की दुर्गा पूजा और दिवाली रहेगी फीकी : भाजपा

संजीवनी टुडे 22-10-2020 19:28:15

झारखंड आंदोलनकारियों के लिए इस साल की दुर्गा पूजा और दिवाली रहेगी फीकी


रांची। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता कुणाल षाड़ंगी ने कहा है कि राज्य सरकार के निकम्मेपन के कारण झारखंड आंदोलनकारी आज अपने अधिकार से वंचित हो रहे हैं। राज्य सरकार के पास मुख्यमंत्री व मंत्रियों के लिए कोरोना वायरस काल में नई गाड़ियों पर फ़िज़ूलख़र्ची के लिए पैसे हैं। लेकिन अलग राज्य के आंदोलनकारियों लिए नहीं। कुणाल ने गुरुवार को कहा कि भाजपा, झारखंड सीधे तौर पर  मुख्यमंत्री से पूछना चाहती है कि हर मंच पर आंदोलनकारी की आवाज़ बनने का दावा करने वाली यह सरकार आख़िर आंदोलनकारियों को पेंशन से वंचित क्यों रख रही है। 

सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा अपने आपको आंदोलन की उपज बताती है, तो आंदोलनकारियों के साथ ही सौतेला व्यवहार क्यों। लॉक डाउन के समय आर्थिक चुनौतियों से हर व्यक्ति परेशान है। ऐसे समय में 5 हज़ार रुपये महीना या 3 हज़ार रुपये महीना की पेंशन राशि पर अपना जीवन काट रहे आंदोलनकारियों के परिवार के दुख को सुनने वाला कोई नहीं। राज्य के लगभग 5000 आंदोलनकारियों का पेंशन पिछले पाँच महीने से बंद है और वो सरकारी दफ्तरों का चक्कर लगा लगाकर थक चुके हैं। 

राज्य के झारखंड वनांचल आंदोलनकारी चिन्हीतिकरण आयोग की सिफ़ारिश के बाद राज्य सरकार पेंशन का भुगतान करती है। इसके लिए वार्षिक 18 करोड़ रूपये का प्रावधान है। जिन लोगों के बलिदान और त्याग से झारखंड अलग राज्य बना और आज सत्ताधारी दल के लोग विभिन्न पदों पर आकर सत्ता का सुख भोग रहे हैं उन्हें आज आंदोलनकारियों की तनिक भी चिंता नहीं नहीं। राज्य सरकार को शर्म आनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा राज्य सरकार से मांग करती है की अविलंब आंदोलनकारियों के पेंशन का भुगतान हो।

यह खबर भी पढ़े: सीएम योगी की भ्रष्टाचार पर बड़ी कार्रवाई, पूर्व जिला कमांडेंट होमगार्ड लखनऊ बर्खास्त

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From jharkhand

Trending Now
Recommended