संजीवनी टुडे

...तो इसलिए पैदा होने के बाद किया जाता है बच्चे का मुंडन

संजीवनी टुडे 21-04-2019 14:02:32


नई दिल्ली। आज हम बच्चों के मुंडन को लेकर बात करे तो आपको ये बता दें कि पैदा होने से लेकर मृत्यु तक के सोलह संस्कार हमारे हिन्दू धर्म में काफी आवश्यक माने गए हैं। इनकी संस्कारों में से ही एक है मुंडन। बच्चों का मुंडन एवं  किसी रिश्तेदार की मौत के वक्त मुंडन। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

dsfs

जानिए आखिर क्यों किया जाता है मुंडन
जानकारी के मुताबिक, सचमुच में मुंडन संस्कार सीधे हमारी सेहत से जुड़ा हुआ है। इसके लिए इस प्रथा के पीछे छिपे विज्ञान को समझना होगा। 

पैदा होने के पश्चात बच्चे का मुंडन किया जाता है, इसके पीछे प्रमुख वजह है जब बच्च माता के गर्भ में होता है तो उसके सिर के बालों में काफी कीटाणु, बैक्टीरिया एवं जीवाणु लगे हुए होते हैं जो साधारण तरह से साफ करने के नहीं निकल पाते है। 

dsfs

इसके लिए एक बार बच्चे का मुंडन करना काफी आवश्यक होता है। इसलिए पैदा होने के एक वर्ष के अंदर बच्चे का मुंडन कराया जाता है। कुछ ऐसा ही कारण मौत के वक्त मुंडन का भी होता है।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

जब पार्थिव शरीर को जलाया जाता है तो उसमें से भी थोड़े ऐसे ही जीवाणु हमारे तन पर चिपक जाते हैं। इन जीवाणुओं को पूरी तरह निकालने हेतु ही मुंडन कराया जाता है।

More From interesting-news

Trending Now
Recommended