संजीवनी टुडे

अनोखा रिवाज, जहां बारातियों के स्वागत के लिए अपनाया जाता है ऐसा तरीका...

संजीवनी टुडे 24-06-2019 10:52:15

आपने शादियों के दौरान फूल और मालाओं से बारातियों का स्वागत करते हुए तो खूब देखा होगा, लेकिन क्या आपने कीचड से बारातियों का स्वागत करते हुए देखा है।


नई दिल्ली। आज हम आपको एक ऐसे रिवाज के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। दरअसल, छत्तीसगढ़ में मैनपाट का मांझी समाज संस्कृति एवं प्रथा को बचाने हेतु आज भीअनोखी परंपरा का निर्वहन शादी के कार्यक्रम में किया जाता है।

GDFG 

बता दें कि इस समाज में बारातियों का स्वागत कीचड़ में तरबतर कर किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि लड़की पक्ष के लोग बारातियों के समक्ष इस खेल के माध्यम से अपने शौर्य का प्रदर्शन करते हैं। 

मांझी समाज में 12 गोत्र हैं। भैंस गोत्र तथा तोता गोत्र में शादी की अपनी प्रथा है। इस गौत्र में लड़की पक्ष के लोग बारात आने से पहले मिट्टी खेलने की तैयारी करके रखते हैं एवं बारात पहुंचने के पश्चात कीचड़ में एक-दूजे को तरबतर करते हैं। 

जब कभी किसी मांझी के घर बारात पहुंचती है तो कीचड़ में खेलने हेतु भीड़ उमड़ पड़ती है। बारात पहुंचने के हफ्ते भर पूर्व से खेत को पानी व मिट्टी डालकर तैयार किया जाता है। जब ये पूरी तरह से कीचड़युक्त हो जाता है तो बारात के पहुंचने पर वहां पर जमकर मिट्टी खेली जाती है।

GDFG

भैंस गोत्र के लोग एक-दूजे को कीचड़ में पाटकर पूर्व उनके ऊपर मिट्टी का लेप लगाते हैं, तत्पश्चात आदिवासी संगीत के मध्य जमकर लोट-लोटकर मिट्टी खेलते हैं। 

वहीं, विवाह समारोह के वक्त जब लड़की के घर दूल्हा बारात लेकर पहुंचता है तो एक बड़े से खंभे में धान की बाली बांधी जाती है एवं दूल्हे को मुंह से तोडने हेतु बोला जाता है। दूल्हा जब ऐसा नहीं कर पाता है तो उस पर लड़की वाले लोग जुर्माना लगाते हैं, जिसे चुकाना काफी आवश्यक होता है।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From interesting-news

Trending Now
Recommended