संजीवनी टुडे

यहां अपनी ही शादी में शामिल नहीं होता दूल्हा, बहन लेती है दुल्हन से फेरे..!

संजीवनी टुडे 27-05-2019 12:04:44


नई दिल्ली। आज हम आपको रीति रिवाज से जुड़ा हुआ एक किस्से के बारे में बताएंगे जिसे सुनकर आप दंग रह जाएंगे। हम सभी ये जानते है कि शादी तभी पूर्व मानी जाती है जब दूल्हा-दुल्हन फेरे लेते है। किन्तु गुजरात के आदिवासी क्षेत्रों में विवाह के दौरान दूल्हे की बहन दुल्हन से विवाह करके घर लेकर आती है। 

gfg

इस क्षेत्र में दूल्हे को अपने ही विवाह में जाने की अनुमति नहीं है। बता दें कि यहां दूल्हा अपने विवाह के दिन अपने घर में रहता है एवं उसकी बहन बारात ले जाकर दूल्हे की सारी रस्में पूर्ण करती है। इतना ही नहीं यदि दूल्हे की बहन नहीं होती तो परिवार की कोई कुंवारी लड़की वो सभी काम करती है जो दूल्हे की बहन के जरिए किया जाता है। 

हालांकि दूल्हे को पूरी तरह तैयार किया जाता है। सुरखेड़ा गांव के कांजीभाई राठवा बताते है कि, ‘आमतौर पर सारी पारंपरिक रस्में जो दूल्हा अदा करता है वह उसकी बहन करती है।’ इतना ही नहीं उन्होंने ये भी कहा कि इस प्रथा का पालन यहां के सिर्फ 3 गांवों में ही होता है। ऐसा माना जाता है कि यदि हम इसका पालन न करें तो कुछ न कुछ अशुभ अवश्य घटित होता है। 

gfg

गांव के मुखिया रामसिंहभाई राठवा के मुताबिक, जब भी लोगों के जरिए इस परंपरा को तोड़ने का प्रयास किया गया तो काफी नुकसान हुआ है। या तो विवाह टूट जाता है या फिर कोई अनहोनी हो जाती है। पंडितों के मुताबिक, ये प्रथा आदिवासी संस्कृति की पहचान है। यह एक लोककथा का भाग है जिसका पालन अनंतकाल से चला आ रहा है। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

इस कहानी के अनुसार, 3 गांवों-सुरखेड़ा, सानदा और अंबल के ग्राम देवता कुंवारे हैं। इसलिए उन्हें आदर देने हेतु दूल्हे घर पर ही रहते हैं। ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से दूल्हे को जान को कोई खतरा नहीं रहता है।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From interesting-news

Trending Now
Recommended