संजीवनी टुडे

फेसबुक पर लड़की की फर्जी आईडी बनाकर करता ऐसा काम....

संजीवनी टुडे 30-06-2019 16:42:28

फेसबुक पर फर्जी लड़की की आईडी बनाकर बुद्धिजीवी, साहित्यकार, राजनीतिज्ञ और सीधे-साधे जनसाधरण लोगों की इमोशनल ब्लैक मेलिंग करके लाखों रुपए का चूना लगाने का मामला उजागर हुआ है।


बगहा। फेसबुक पर फर्जी लड़की की आईडी बनाकर बुद्धिजीवी, साहित्यकार, राजनीतिज्ञ और सीधे-साधे जनसाधरण लोगों की इमोशनल ब्लैक मेलिंग करके लाखों रुपए का चूना लगाने का मामला उजागर हुआ है। चूना लगानेवालों का एक सिंडीकेट है, जो बगहा नगर से लेकर बगहा के ग्रमीण क्षेत्रों तक सक्रिय है। इस सिंडीकेट में कई लड़कियाँ,कई लड़के और पुरुष पत्रकार भी शामिल हैं। 

सूत्रों के मुताबिक सिंडीकेट की लड़कियाँ फर्जी आईडी बनाकर राजनीतिज्ञ, शिक्षक, चिकित्सक जैसे लोगों से पहले मनोवैज्ञानिक ढंग से भैया, चाचा बनाकर सम्बन्ध स्थापित कर रहीं हैं। फिर कुछ दिनों के बाद उनसे अपना पारिवारिक दुखड़ा रोना शुरू करती हैं। फिर यह बताती हैं कि मेरे पिता जीवित नहीं है, वर्षों पहले उनकी हत्या कर दी गयी। माता जी की तबीयत बहुत खराब है। बड़ी बहन की शादी में पैसा का आभाव है, मेरी पढ़ाई पैसे के आभाव में पूरी नहीं हो पा रही है।मेरे पास मोबाइल रिचार्ज करने के पैसे नहीं है।

इसी तरह  के बहाने  बनाकर फेसबुक पर बने मित्रों में कुल के गुरू,धर्म के पिता,धर्म के भाई,आदर्श गुरू बनाकर लोगों से रुपया का दोहन बैंक खाते के माध्यम से कर रही हैं।इस  संदर्भ के मामले में अखिल भारतीय हिन्द क्रांति पार्टी, सतना मध्य प्रदेश के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश त्रिपाठी भी ठगे गये हैं।उनके अनुसार फेसबुक पर श्रद्धा पाण्डेय नाम की लड़की का फर्जी आईडी काम कर रहा है,जो बगहा की रहनेवाली बताती है।

उसके दुःखड़े से प्रभावित होकर कई बार में एक लाख दो हजार रुपया स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया के खाते के माध्यम से देकर मदद कर चुका हूँ।बैंक खाता उसके नाम से नहीं है।बैंक खाता उसके पड़ोसी मनसफ मियाँ के नाम से है।मनसा मियाँ के खाता न•० 35644822601 के माध्यम से वह रुपया प्राप्त किया  है।मनसफ मियाँ बगहा के ग्रामीण क्षेत्र गंडक दियारा मदरहवा का रहनेवाला है। 

afaf

पैसा देने के क्रम में मुझे एकबार शक हो गया कि यह लड़की फर्जी हैं,क्योंकि पैसे की  मदद बराबर फेसबुक के मैसेन्जर से माँगती थी,उसके द्वारा दिए गये मोबाइल पर काॅल करके बात करना चाहा ,तो उसने फोन नहीं उठाया। फोन नहीं उठाने के बाद वह चैट पर बहाना बनाती थी। इसलिए तहकीकात करने के लिए जब बगहा पहुंचा, तो उसके बताये गये पता बगहा भैरोगंज के प्रतापपुर पहुँचा।वहाँ पर कोई भी व्यक्ति स्वर्गीय रघुवंश पाण्डेय का परिवार नहीं रहता था गलत निकला।

फिर मैं वापस लौट गया।इसकी जानकारी तत्कालीन पुलिस अधीक्षक अरविंद कुमार गुप्ता को मोबाइल पर दी थी.उन्होंने मुझसे प्रथमीकि दर्ज कराने की बात कही थी,पर मैं थोड़ा आश्वस्त होना चाह रहा था कि पूरी जाँच पड़ताल करने के बाद एफआईआर कराऊँ। कमलेश त्रिपाठी के अनुरोध पर जब इसकी छानबीन करनी शुरू की तो मामला सही निकला।

संवाददाता ने कमलेश त्रिपाठी द्वारा दिये गये मोबाइल नम्बर7739590465 पर पहले मनसफ मियाँ से पूछताछ करनी शुरू की तो वह लेनदेन के नाम पर भड़क उठा और उसने कहा कि कोई लेनदेन नहीं किया हूँ। श्रद्धा पाण्डेय के घर का ठिकाना और मोबाइल नम्बर गलत निकला।वह फोन गुजरात से उठता था और अगले  आदमी ने रांग नम्बर बताया  था। 

श्रद्धा पाण्डेय की बहन के नम्बर पर बात की तो उसने नेहा पाण्डेय को बगहा की रहनेवाली बताया। उधर फेसबुक पर श्रद्धा पाण्डेय का गत19 जनवरी से अपटुडेट बन्द है,उसे शक हो गया है कि मेरे बारे में असलियत लोग जान चुके हैं। कुल मिलाकर मनसा मियां से अगर पुलिस पूछ ताछ करे, तो इस सिंडीकेट का भंड़ाफोड़ हो सकता है।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From interesting-news

Trending Now
Recommended