संजीवनी टुडे

...तो इसलिए हमेशा बाई तरफ ही नाक छिदवाती है औरतें

संजीवनी टुडे 23-02-2019 01:30:00


नई दिल्ली। आज हम नाक को लेकर बात करे तो आपको ये बता दें कि नाक छिदवाना भारतीय संस्कृति एवं प्रथा के हिसाब से काफी आवश्यक माना जाता है। परन्तु बहुत कम लड़कियां इस बात से अवगत है कि ये स्त्री की खूबसूरती बढ़ाने के साथ-साथ सेहत हेतु भी लाभकारी है। 

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

gfgg

भारतीय महिलाओं के नाक छिदवाने के पीछे का कारण काफी कम लोग है। अधिकतर औरतें इसे सिर्फ श्रृंगार से जोड़कर ही देखती हैं। नाक में छेद करवाने हेतु कोई विशेष उम्र नहीं होती। इसे बचपन, किशोरावस्था, वयस्क होने पर कभी भी करवा सकते हैं। 

गर्भावस्था में भी औरतें नाक छिदवा सकती है। इससे शिशु पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है। वेदों एवं शास्त्रों में लिखा गया है कि नाक छिदवाने से औरत को माहवारी पीड़ा से राहत मिलती है। इसके सिवा प्रसव के वक्त नवजात को जन्म देने में काफी सरलता होती है।

gfgg

वहीं, अन्य तरफ डॉक्टर्स बताते है कि नाक छिदवाने से महिला को माइग्रेन नहीं होता है। औरत के बाई ओर के नाक को छेदने महिला के प्रजनन अंगों पर विपरित प्रभाव नहीं पड़ता है।लड़कियों की बाई तरफ की नाक छेदी जाती है क्योंकि उस जगह की नसें नारी के प्रजनन अंगों से जुड़ी हुई होती हैं। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

नाक के इस भाग पर छेद करने से औरत को प्रसव के वक्त भी कम दर्द से गुजरना पड़ता है। इस कारण बाई तरफ नाक छिदवाई जाती है।

More From interesting-news

Loading...
Trending Now
Recommended