संजीवनी टुडे

15 वर्ष बाद खिल उठा दुर्लभ अशोक, नहीं रहा खुशी का ठिकाना

संजीवनी टुडे 21-04-2019 18:05:32


उदयपुर। रावण की लंका में स्थित अशोक वाटिका का वह वृक्ष जिसकी छांव तले बैठने तथा इसके फूलों की भीनी महक से देवी सीता के शोक का हरण हुआ, इन दिनों बांसवाड़ा जिले में भी अपनी मोहक आभा बिखेरने लगा है। सीता-अशोक (सराका इण्डिका) नामक यह दुर्लभ वृक्ष जिले के बड़ोदिया कस्बे में शिक्षाविद व काष्ठ शिल्पकार लीलाराम शर्मा के निवास पर एक गमले में ही पुष्पित हुआ है।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

पंद्रह वर्ष पूर्व रोपे गए मात्र ढाई-तीन फीट ऊंचाई के इस पौधे पर खिले शानदार फूलों को देखकर न केवल शर्मा अपितु पर्यावरण प्रेमियों की खुशी का भी ठिकाना नहीं रहा। इस पौधे पर नारंगी-लाल रंगों की फूलों की आभा देखते ही बन रही है। पर्यावरणीय विषयों के जानकारों के अनुसार यही असली अशोक वृक्ष है। जिले में ऐसे इक्के-दुक्के वृक्ष ही हैं।

Image result for सराका इंडिका

उल्लेखनीय है कि भारतीय धर्म, संस्कृति व साहित्य में प्रमुख स्थान प्राप्त इसी अशोक वृक्ष के तले की गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था और भगवान महावीर स्वामी को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। प्रचलित मान्यताओं अनुसार चैत्र शुक्ला अष्टमी के दिन अशोक वाटिका में इसी वृक्ष के नीचे हनुमानजी के हाथों माता सीता को भगवान राम का संदेश व मुद्रिका (अंगूूठी) प्राप्त हुई थी। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

इन्हीं मान्यताओं के कारण अशोकाष्टमी के दिन महिलाएं इसका पूजन कर सौभाग्य की कामना करती है। जानकारों के अनुसार कामदेव के बाणोें में एक बाण इसका पुष्प भी है, अतः इसे प्रेम का प्रतीक माना जाता है। इसके पुष्प, पत्तियों, छाल व फलों का उपयोग कई प्रकार की औषधियों के रूप में होता है।

More From interesting-news

Loading...
Trending Now
Recommended