संजीवनी टुडे

OMG: यहां त्यौहार के नाम पर बच्चों संग होता है ये दर्दनाक काम, जानकर उड़ जाएंगे होश

संजीवनी टुडे 14-09-2019 15:01:04

मुहर्रम पैगंबर मोहम्मद के पोते हुसैन इब्न अली की मृत्यु की याद दिलाता है।


नई दिल्ली। बगदाद से 100 किलोमीटर दूर उत्तर-पूर्व में एक छोटा-सा कस्बा कर्बला हैं। यहां पर तारीख-ए-इस्लाम की एक ऐसी भयंकर जंग छिड़ी हुई थी, जिसने इस्लाम का पूरा इतिहास ही परिवर्तित कर डाला था। यह वही कर्बला है जिसके नाम की बनी जगह पर लोग जमा होकर मुहर्रम मनाने आते हैं।

bfgfg

यह खबर भी पढ़े:अल्ट्रासाउंड में गर्भवती औरत के पेट में अजीब हरकतें करते दिखा बच्चा, डॉक्टर भी रह गए हैरान!

बता दें कि, हिजरी संवत के पूर्व माह मुहर्रम की 10 तारीख को हजरत मुहम्मद साहब के छोटे नवासे इमाम हुसैन एवं उनके 72 अनुयाइयों को मौत के घाट उतार दिया गया था एवं इस जंग में हजरत हुसैन यजीद शहीद हुए थे। इस दिन को 'यौमे आशुरा' के नाम से जाना जाता है।

मुहर्रम पैगंबर मोहम्मद के पोते हुसैन इब्न अली की मृत्यु की याद दिलाता है। हजारों वर्ष से शिया उपासक उनकी याद में बड़ी संख्या में मौजूद होकर पैगंबर मोहम्मद के पोते हुसैन इब्न अली को याद कर उनकी मौत पर शोक जताते हैं। 

किन्तु अफगानिस्तान के इस शहर में शोक जताने का ढंग कुछ भिन्न है। बता दें कि यहां के उपासक इस्लामिक कैलेंडर में पूर्व माह के दसवें दिन में आशूरा के दिन अपने शरीर का खून निकालकर अपना दुख जताते हैं। इतना ही नही, यहां पर लोग अपने बच्चे के सिर पर तलवार चलाकर रक्त निकालने से भी नही हिचकिचाते हैं। 

bfgfg

यहां मान्‍यता है कि 10वें मोहर्रम के दिन ही इस्‍लाम की रक्षा हेतु हजरत इमाम हुसैन ने अपने प्राण त्‍याग डाले थे। इस दिन प्रत्येक वर्ष अफगानिस्तान, ईरान, इराक, लेबनान, बहरीन एवं पाक में एक दिन का राष्ट्रीय अवकाश होता है। 

आशुरा का महत्‍व
आशुरा मुहर्रम के माह में मुसलमान शोक मनाते हैं।  मान्‍यताओं की माने तो, बादशाह यजीद ने अपनी सत्ता कायम करने हेतु हुसैन एवं उनके परिवार वालों पर अत्याचार किया और 10 मुहर्रम को उन्‍हें मार डाला। हुसैन का उद्देश्य स्वयं को मिटाकर भी इस्‍लाम और इंसानियत को जिंदा रखना था। इसके साथ ही पैगंबर को इतिहास कभी भी नही भूल पायेगा।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From interesting-news

Trending Now
Recommended