संजीवनी टुडे

PICS: एक ऐसा किला जिसके बारें में जानकर आप भी रह जाएंगे दंग

संजीवनी टुडे 11-08-2017 12:31:36

नई दिल्ली। दुनिया में ऐसे बहुत से स्थान हैं जहां बुरी आत्माओं ने अपना कब्जा जमा रखा है। इतिहास के पन्नों को पलटें तो ये वही स्थान हैं जो एक समय पहले काफी खुशहाल हुआ करते थे और बस एक बुरी नजर की वजह से वह स्थान आज श्रापित हो गए हैं। जहां पहले वहां चारों ओर खुशहाली हुआ करती थी आज वह स्थान अंधेरों के बीच कहीं खो गया है।

 

ऐसा ही एक स्थान है भानगढ का किला जो अपनी भूतहा कहानियों को लेकर काफी चर्चाओं में है। शायद बहुत ही कम लोग यह जानते होंगे कि यह कहानियां नहीं बल्कि एक ऐसी खतरनाक सच्चाई है जिससे आज तक पीछा नहीं छुडवाया जा सका है। सत्रहवीं शताब्दी में राजा सवाई मानसिंह के छोटे भाई राजा माधोसिंह ने भानगढ किले का निर्माण करवाया था और किले के चारो ओर पहाडों की खूबसूरती है।

यह भी पढ़े: जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए करे टमाटर का इस्तेमाल

इस किले के निर्माण में बेहतरीन शिल्पकलाओं का भी प्रयोग किया गया है और साथ ही इस किले में हिंदू देवी-देवताओं के भी मंदिरों का भी निर्माण किया गया है। भानगढ किले का निर्माण बेहद मजबूत पत्थरों से किया गया था जो आज भी जस के तस स्थित हैं। लेकिन इस खूबसूरत भानगढ किले की एक भयानक सच्चाई इसके अंदर कैद है और वह है एक तांत्रिक का श्राप, जिसकी वजह से आज भी इस किले में शाम ढलते ही रूहों और आत्माओं की आवाज आने लगती है। 

कहते हैं भानगढ की राजकुमारी रत्नावती बहुत खूबसूरत थी। आसपास के राज्यों के सभी राजकुमार उससे विवाह करना चाहते थे लेकिन रत्नावती को कोई भी पसंद नहीं आता था। लेकिन उसी राज्य में रहने वाला सिंघिया, जो काले जादू का ज्ञाता था कि नजर भी रत्नावती पर थी। वह रानी रत्नावती के रूप का दीवाना था और उससे विवाह करना चाहता था लेकिन रत्नावती ने कभी उसे पलटकर नहीं देखा था। जिस दुकान से रानी रत्नावती के लिए इत्र जाता था उसने उस दुकान में जाकर रत्नावती को भेजे जाने वाली इत्र की बोतल पर काला जादू कर उस पर वशीकरण मंत्र का प्रयोग किया। 

लेकिन अपने इस काले जादू का असर सिंघिया पर पलट गया और एक भारी-भरकम पत्थर के नीचे आने से काले जादूगर सिंघिया की जान चली गई। लेकिन मरते-मरते उसने राजकुमारी समेत पूरे भानगढ को यह श्राप दिया कि इस महल और भानगढ में रहने वाले सभी लोग मर जाएंगे और वह फिर कभी जन्म भी नहीं ले पाएंगे, उनकी आत्मा हमेशा इसी स्थान पर कैद रहेंगी। 

सिंघिया की मौत के कुछ ही दिनों बाद भानगढ और अजबगढ के बीच कत्लेआम हुआ जिसमें राजकुमारी रत्नावती समेत सभी भानगढ वासियों की मौत हो गई। रात को इस किले में जाना पूरी तरह निषेध है। लेकिन जिन-जिन लोगों ने वहां मौजूद आत्माओं की पडताल करने की कोशिश की उनका कहना था कि रात के समय वहां औरतों की चीखें और सैनिकों के चलने की आवाजें आती हैं। पूरी रात वहां शोर-शराबा होता रहता है और खतरनाक आवाजें आती रहती हैं।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

Rochak News Web

More From interesting-news

Trending Now
Recommended