संजीवनी टुडे

इन तरीको से करें ब्रेस्ट कैंसर का खात्मा, जानें इसके लक्षण

संजीवनी टुडे 03-09-2020 15:10:14

ब्रेस्ट कैंसर एक जानलेवी बीमारी है।


डेस्क। हमारे स्वास्थ्य से बडा कोई खजाना नहीं होता है। यह बात तब समझ आती है, जब किसी लंबी या गंभीर बीमारी से जूझना पडता है। शरीर के प्रति सजग रहने से रोग जल्दी पकड में आता है। ब्रेस्ट कैंसर एक जानलेवी बीमारी है। लेकिन अच्छी बात यह है कि कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का भी इलाज है,  विशेष रूप से ब्रेस्ट कैंसर का, इसका इलाज अब सौ प्रतिशत तक भी संभव है। ब्रेस्ट कैंसर का खतरा समय के साथ तेजी से बढ़ता जा रहा है। ब्रेस्ट कैंसर महिलाओं में होने वाले कैंसरों में सबसे आम होता है। आज हम आपको ब्रेस्ट कैंसर जो की महिलाओं में होता है के बारें में बताने जा रहे है। तो आइये जानते है। 

 Breast cancer

ब्रेस्ट कैंसर कैसे फैलता है
जब सेल्स असामान्य रूप से बॉडी के किसी भी हिस्से में बढ़ने लगती है, तो वो धीरे धीरे कैंसर का रूप ले लेती है। ऐसे में ब्रेस्ट में छोटे- छोटे सेल्स इकट्ठा होने लगते हैं। ऐसे में ब्रेस्ट कैंसर होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

इनको रहता है ज्यादा खतरा
- मेनोपॉज के बाद हार्मोन का रिपलेस्मेंट होना
-12 साल की उम्र से पहले पीरियड्स होना
- ज्यादा गर्भनिरोधक पिल्स लेने के कारण
- जेनेटिक बदलाव
- 30 साल की उम्र के बाद कंसीव करना

लक्षण 
स्तन कैंसर का सबसे आम लक्षण स्तन या बगल क्षेत्र में गांठ या स्तन में एक गाढ़ा टिश्यू के रूप में देखा जा सकता है।

स्तन या बगल के क्षेत्र में लगातार दर्द जो मासिक चक्र पर निर्भर नहीं करता है।

स्तन की त्वचा का लाल होना।

एक या दोनों निपल्स पर दाने।

स्तन के आकार या आकार में बदलाव।

निप्पल से तरल निर्वहन जिसमें रक्त हो सकता है।

निप्पल का उल्टा होना। 

स्तन या निप्पल पर त्वचा का स्केलिंग, छीलना या झपकना। 

यदि आप स्तन गांठ पाते हैं, तो घबराएं नहीं, अधिकांश स्तन गांठ कैंसर नहीं होता 
है। हालांकि, स्तन पर किसी भी तरह की गांठ नजर आने पर जांच के लिए डॉक्टर के पास जाना लाजमी है।

भारत में इसके केस ज्यादा देखने को मिलते हैं। वहीं साइंटिस्ट इसके इलाज के लिए नई नई दवाएं बनाने में लगे हुए हैं। इसी बीच हाल ही में एक रिसर्च से सामने आया है कि लाल चंदन के बीज कैंसर के इलाज के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

रिसर्च की मानें तो लाल चंदन के बाीज में एंटी-इंफ्लामेटरी, एंटी बैक्टीरियल और कैंसर रोधी गुण पाए जाते हैं। जो ब्रेस्ट कैंसर के लिए काफी कारगार साबित हो सकते हैं। यह रिसर्च चूहों पर की गई, जिसमें ट्यूमर काफी कम देखने को मिला।

ऐसे करें लाल चंदन का इस्तेमाल 
यदि आपको कोई और भी बीमारी है तो इसे इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर कंसल्ट कर लें। वही लाल चंदन का सेवन करने के लिए आप इसका पाउडर या फिर काढ़ा बनाकर भी कर सकते हैं।

क्या खाये 
हल्दी 

हल्दी कई तरह के एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरी होती है। यह कैंसर के खतरे को कम करने में मददगार साबित हो सकती है। अगर आप एक चम्मच हल्दी का सेवन एक गिलास पानी के साथ करते हैं तो कैंसर सम्बन्धी बीमारियों का खतरा काफी कम किया जा सकता है। 

अंगूर 
अंगूर का सेवन करने से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम हो सकता है।

लहसुन 
इसमें कई ऐसे तत्व होते हैं जो ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को काफी हद तक कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं। इसके लिए आप इसके एक चम्मच रस को एक गिलास पानी के साथ पियें। 

बेरी 
सबेरी, ब्लैकबेरी, क्रेनबेरी और चेरी में इलैजिक ऐसिड एंथोसायानिडिन्स और प्रोएंथोसायानिडिन्स होते हैं जो कैंसर कोशिकाओं के साथ लड़ते हैं और उन्हें जड़ से खत्म कर देते हैं। इसलिए रोजाना बेरी जरूर खाएं।

 सेब  
सेब को भी ब्रेस्ट कैंसर से बचाव में कारगर माना गया है। इसके छिलके में मौजूद कैचिन्स और फ्लेवोनॉल्स  मैटाबॉलिज्म को सुरक्षित रखते हैं और कैंसर कोशिकाओं से लड़ते हैं। 

अलसी के बीज  
अलसी के बीज का सेवन दूध के साथ करने से ब्रेस्ट कैंसर में फायदा होता है।

 Breast cancer

यह खबर भी पढ़े: अगर आप भी है लो ब्लड प्रेशर से परेशान, तो जरूर जानें ये बातें

यह खबर भी पढ़े: बीयर पीने से होते हैं ये गज़ब के फायदे, जानकर आपका भी मुँह रह जायेगा खुला

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From health

Trending Now
Recommended