संजीवनी टुडे

खाद्य प्रबंधन का प्रशिक्षण लेकर सोनीपत से लौटी गिल्लाखेड़ा समूह की महिलाएं

संजीवनी टुडे 14-01-2021 17:23:06

महिलाओं की आर्थिक तरक्की से ही समाज व देश की असल तरक्की है। इसके अभाव में पूर्ण तरक्की की कल्पना भी नहीं की जा सकती। उत्पाद की गुणवत्ता ही आपके उत्पाद की मार्केटिंग करेगी।


फतेहाबाद। महिलाओं की आर्थिक तरक्की से ही समाज व देश की असल तरक्की है। इसके अभाव में पूर्ण तरक्की की कल्पना भी नहीं की जा सकती। उत्पाद की गुणवत्ता ही आपके उत्पाद की मार्केटिंग करेगी। यह बात गुरुवार को लघु सचिवालय के सभागार में उपायुक्त डॉ. नरहरि सिंह बांगड़ ने गांव गिल्लांखेड़ा की समूह की महिलाओं को संबोधित करते हुए कहीं। गांव गिल्लांखेड़ा से समूह की महिलाएं हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के सहयोग से राष्ट्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी उद्यमिता एवं प्रबंधन संस्थान, सोनीपत से 5 से 11 जनवरी तक 7 दिवसीय खाद्य प्रबंधन का प्रशिक्षण लेकर आई हैं। महिलाओं ने स्वयं द्वारा बनाए गए उत्पाद स्कवॉश, केचअप, सॉस आदि उपायुक्त डॉ. नरहरि सिंह बांगड़, पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार व नगराधीश अंकिता वर्मा को भेंट किए।

उपायुक्त डॉ. नरहरि सिंह बांगड़ ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार भी चाहती है कि प्रत्येक जिला से एक उत्पाद पर काम हो। इस दौरान महिलाओं से एक-एक करके अपने अनुभव सांझा किए। महिलाओं ने उपायुक्त डॉ. बांगड़ को बताया कि उन्होंने इस प्रशिक्षण के दौरान स्कवॉश, जैम, जैली, केचअप, सॉस आदि बनाना सीखा है। महिलाओं ने बताया कि इस दौरान उन्होंने फलों व सब्जियों से प्राप्त वेस्ट का प्रबंधन कर उससे धन उपार्जन कैसे किया जा सकता है। उपायुक्त ने कहा कि आपको अपने उत्पाद का ग्राहक से फीडबैक जरूर लेना है, जिससे आप मार्किट में पहले से मौजूद उत्पाद से अच्छा उत्पाद ग्राहक को दे सकें। उपायुक्त डॉ. बांगड़ ने कहा कि उनके उत्पाद की मार्केटिंग में भी उनकी ओर से हर संभव सहयोग किया जाएगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी ज्योति यादव, अतिरिक्त उपायुक्त सम्वर्तक सिंह, जिला कार्यक्रम प्रबंधक रणविजय, खंड इंचार्ज अमित कुमार, एलडीएफए अमित जोइशी, स्वर्णकौर आदि मौजूद रहे। 

यह खबर भी पढ़े: जम्मू कश्मीर: श्रीनगर में 29 साल बाद सबसे ठंडी रात

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From haryana

Trending Now
Recommended