संजीवनी टुडे

Lootcase Movie Review: ड्रामा और कॉमेडी का डबल डोज हैं 'लूटकेस'

संजीवनी टुडे 01-08-2020 14:17:49

राजेश कृष्णनन की कॉमेडी फ़िल्म लूटकेस रिलीज हो चुकी है। फिल्म में कुणाल खेमू, रशिका दुग्गल, विजय राज, गजराज राव और रणवीर शौरी मुख्य भूमिका में है।


नई दिल्ली। राजेश कृष्णनन की कॉमेडी फ़िल्म लूटकेस रिलीज हो चुकी है। फिल्म में कुणाल खेमू, रशिका दुग्गल, विजय राज, गजराज राव और रणवीर शौरी मुख्य भूमिका में है। यह फिल्म डिज़्न प्लस हॉटस्टार पर रिलीज़ हुई है। 

Lootcase

कहानी
नंदन कुमार नाम एक मीडिल क्लास आदमी है, जो प्रेस में काम करता है। उसके जीवन का मकसद है कि उसे बेस्ट इम्पलॉई का अवॉर्ड मिल जाए। इसके लिए वह नाइट शिफ्ट के लिए भी हां कर देता है। नाइट शिफ्ट के दौरान घर पहुंचते वक्त उसे हाथ पैसों से भरा बैग लगता है। इसमें एक 10 करोड़ रुपये और एक महत्वपूर्ण फाइल है। इस बैग के पीछे दो और लोग लगे हुए हैं। एक है नेता मिस्टर पाटिल, जिनके इशारे पर गैंगस्टर ओमर और इंस्पेक्टर कोलते इस बैग की तलाश कर रहे हैं। 

Lootcase

वहीं, ओमर का दुश्मन और गैंगस्टर बाला भी इस बैग को हथियाने के चक्कर में है। अब सभी को इस बैग की तलाश है। वहीं, नंदन इन पैसों को संभालने में व्यस्त है। वह इसका जिक्र अपनी पत्नी से भी नहीं कर सकता है। वहीं, नंदन की पत्नी लता कम पैसे और खर्च से परेशान है। इन सबके बीच सिचुएशन कॉमेडी पैदा करने की कोशिश की गई है। 

Lootcase

फिल्म में दिल्ली बेल्ही के बाद विजय राज एक बार फिर गैंगस्टर की भूमिका में दिखे हैं। उनकी अदायगी में रवानी नज़र आती है। वहीं, नेता के किरदार में गजराज राव भी अपना कमाल दिखाते हैं। रणवीर शौरी एक भ्रस्ट लेकिन सख़्त पुलिस वाले के किरदार में हैं। उनको बार-बार देखने को दिल करता है। कुणाल खेमू परेशान आम आदमी नज़र आते हैं।

Lootcase

हालांकि, रशिका के किरदार उतना मौका नहीं मिलता है फिर भी वह अपना काम बख़ूबी कर जाती हैं। इसके अलावा आपको टीवीएफ और यूट्यूब के दुनिया में सक्रिय कई किरदार नज़र आ जाएंगे। इन एक्टर्स को देखकर चेहरे खिल जाते हैं। अभिषेक बनर्जी ने एक बार फिर खुंद को कास्टिंग में सफ़ल साबित किया है। 

निर्देशक राजेश कृष्णन एक मामले काफी हदतक सफ़ल हुए हैं, वह एक्टिंग को निकलाने में। सभी एक्टर्स का उन्होंने बखूबी इस्तेमाल किया है। हर छोटा-छोटा किरदार अपना इम्पैकट छोड़ जाता है। भले ही वह किरदार एक या दो सीन के लिए फ़िल्म में नज़र आया है। 

Lootcase

फ़िल्में के गाने भी काफी औसत हैं। एक गाना है, जो कहानी को आगे बढ़ता है। वहीं, बीच में एक आइटम सॉन्ग भी है। ऐसी फ़िल्म के साथ ऐसे प्रयोग से बचा जा सकता था। वहां, आपको एक ब्रेक-सा महसूस होता है। राजेश कृष्णनन के पुराने शो ट्रिपलिंग से परचित हैं, उन्हें काफी निराशा होने वाली है। वह एक फ्रेम में भले नज़र आ जाते हैं, लेकिन अपनी डेब्यू फ़िल्म में रवानगी लाने में नाकामयाब रहते हैं। 

यह खबर भी पढ़े: अंकिता लोखंडे का बड़ा खुलासा, सुशांत के पिता के पास नहीं था उनका नया नंबर, मुझे फोन करके कहा था कि मेरी बात करा दो

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From entertainment

Trending Now
Recommended