संजीवनी टुडे

संतूर वादक शिवकुमार शर्मा को ममता ने दी जन्मदिन की शुभकामनाएं

संजीवनी टुडे 13-01-2019 11:16:01


कोलकाता । मशहूर संतूर वादक शिवकुमार शर्मा को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जन्मदिन के मौके पर शुभकामनाएं दी है। रविवार सुबह मुख्यमंत्री ने इस बारे में एक बयान जारी किया। इसमें उन्होंने कहा कि आज संतूर वादन के महारथी शिवकुमार शर्मा का जन्मदिन है। मैं उन्हें शुभकामनाएं दे रही हूं।

जयपुर में प्लॉट/ फार्म हाउस: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

उल्लेखनीय है कि 13 जनवरी 1938 को जम्मू में जन्मे पंडित शिवकुमार शर्मा आज 81 साल के हो चुके हैं। वे प्रख्यात भारतीय संतूर वादक हैं। संतूर एक कश्मीरी लोक वाद्य होता है। इनके पिता ने इन्हें तबला और गायन की शिक्षा तब से आरंभ कर दी थी, जब ये मात्र पांच वर्ष के थे। इनके पिता ने संतूर वाद्य पर अत्यधिक शोध किया और यह दृढ़ निश्चय किया कि शिवकुमार प्रथम भारतीय बनें जो भारतीय शास्त्रीय संगीत को संतूर पर बजायें। तब इन्होंने 13 वर्ष की आयु से ही संतूर बजाना आरंभ किया और आगे चलकर इनके पिता का स्वप्न पूरा हुआ। इन्होंने अपना पहला कार्यक्रम बंबई में 1955 में किया था।

शिवकुमार शर्मा संतूर के महारथी होने के साथ साथ एक अच्छे गायक भी हैं। एकमात्र इन्हें संतूर को लोकप्रिय शास्त्रीय वाद्य बनाने में पूरा श्रेय जाता है। इनका प्रथम एकल एल्बम 1960 में आया। 1965 में इन्होंने निर्देशक वी. शांताराम की नृत्य-संगीत के लिए प्रसिद्ध हिन्दी फिल्म झनक झनक पायल बाजे का संगीत दिया।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

1967 में इन्होंने प्रसिद्ध बांसुरी वादक पंडित हरिप्रसाद चौरसिया और पंडित बृजभूषण काबरा की संगत से एल्बम कॉल ऑफ द वैली बनाया जो शास्त्रीय संगीत में बहुत ऊंचे स्थान पर गिना जाता है। उसके बाद से संगीत के क्षेत्र में शिव कुमार शर्मा एक चमकता सितारा बनकर उभरते चले गए हैं। उन्हें कई राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय सम्मान एवं पुरस्कार मिल चुके हैं। इन्हें 1985 में बाल्टीमोर, संयुक्त राज्य की मानद नागरिकता भी मिल चुकी है। इसके अलावा इन्हें 1986 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार। साल 1991 में पद्मश्री, एवं 2001 में पद्म विभूषण से भी अलंकृत किया गया था। 
sanjeevni app

More From entertainment

Loading...
Trending Now
Recommended