संजीवनी टुडे

चुनाव 2019: राजनीति में सनी देओल के आने से खन्ना परिवार हुआ आपसी कलह का शिकार

संजीवनी टुडे 26-04-2019 09:33:51


नई दिल्ली । फिल्म इंडस्ट्री के दिवंगत अभिनेता विनोद खन्ना की गुरदासपुर (पंजाब) सीट पर उनकी विरासत की गद्दी के नाम पर उनका परिवार ही कलह का शिकार नजर आ रहा है। इस सीट के लिए एक तरफ जहां उनकी दूसरी पत्नी कविता दफ्तरी टिकट चाहती थीं, वहीं दूसरी ओर विनोद खन्ना के बेटे अक्षय खन्ना भी टिकट चाहते थे। भारतीय जनता पार्टी ने दोनों में से किसी को पार्टी का टिकट न देते हुए इस सीट से सनी देओल को उतारने का फैसला किया, तो खन्ना परिवार में ही कलह बढ़ गया। मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

vbnvb

अक्षय चाहते थे कि इस सीट पर भाजपा का विरोध करने के लिए कांग्रेस का हाथ थामा जाए। इसके लिए वे शत्रुघ्न सिन्हा के संपर्क में बताए जाते हैं, जो अब कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। दूसरी ओर, कविता दफ्तरी चाहती हैं कि वे निर्दलीय रुप से मैदान में आए और भाजपा के कथित धोखे का भांडाफोड़ करें। कविता दफ्तरी आरोप लगा रही हैं कि उनको टिकट का वादा किया गया था। उन्होंने क्षेत्र में पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ तैयारियां भी शुरु कर दी थीं। 

vbnvb

कविता का दावा है कि उपचुनाव के वक्त भी यही भरोसा दिलाया गया था कि आम संसदीय चुनावों में ये सीट उनको दी जाएगी। जहां अक्षय खन्ना अब कांग्रेस का साथ चाहते हैं, वहीं कविता कांग्रेस से दूरी बनाए रखने के पक्ष में हैं। इस परिवार के करीबी लोग आपसी कलह को सबसे बड़ी कमजोरी बताते हैं, जिनकी वजह से विनोद खन्ना की विरासत का मामला ही खत्म हो गया। विनोद खन्ना के समय से इस परिवार के करीबी एक निर्देशक का कहना है कि कविता दफ्तरी और अक्षय खन्ना में बोलचाल लगभग न के बराबर रही है। विनोद खन्ना की बीमारी और यहां तक कि उनके अंतिम संस्कार में भी दोनों के बीच अलगाव देखा गया। 

vbnvb

अक्षय के बड़े भाई राहुल खन्ना का ज्यादातर वक्त अमेरिका में गुजरता है और उन्होंने खुद को राजनीति से बिल्कुल अलग रखा हुआ है। जानकार मानते हैं कि विनोद खन्ना के रहते उनके राजनैतिक उतराधिकारी के तौर पर किसी ने काम नहीं किया। कविता अपने पति के साथ दौरों पर जरुर जाती थीं, लेकिन वे किसी कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेती थीं और अक्षय खन्ना तो अपने पिता के निधन से कुछ वक्त पहले तक खुद को राजनीति से दूवाला इंसान मानते थे। अपने पिता के लिए एक बार रोड शो में हिस्सा लेने के अलावा अक्षय खन्ना ने गुरदासपुर की तरफ मुड़कर भी नहीं देखा। 

MUST WATCH &SUBSCRIBE 

विनोद खन्ना के निधन के बाद इस सीट पर हुए उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी हार गई थी और ये सीट कांग्रेस के सुनील जाखड़ ने जीत ली थी। उस उपचुनाव में भी विनोद खन्ना की पत्नी कविता दफ्तरी भाजपा का टिकट चाहती थीं और इस बाबत वे उस वक्त पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से मिली भी थीं, लेकिन पार्टी ने उपचुनाव में उनकी बात नहीं सुनी, क्योंकि अक्षय खन्ना भी टिकट चाहते थे, लेकिन वे अमित शाह से नहीं मिले थे। उपचुनाव के दौरान भाजपा चाहती थी कि कार्यकर्ता के तौर पर कविता दफ्तरी पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार करे, लेकिन कविता ने ऐसा नहीं किया। अक्षय खन्ना तो अपने पिता के चुनाव क्षेत्र में कभी नहीं गए।

 

More From entertainment

Trending Now
Recommended