संजीवनी टुडे

कार चोरी के अंतर्राज्यीय गिरोह के 6 बदमाशों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

संजीवनी टुडे 08-11-2017 13:24:53

Police arrested six gangsters of inter state gang of car theft

नई दिल्ली। थाना सेक्टर-39 पुलिस ने कार चोरी के अंतर्राज्यीय गिरोह के 6 बदमाशों को बीते सोमवार शाम एक्सप्रेसवे के नजदीक स्थित हाजीपुर गांव के पास से गिरफ्तार किया है। इनसे चोरी की 7 लग्जरी कार बरामद हुई हैं। गिरोह अब तक 1000 से ज्यादा कारें चोरी कर पूर्वोत्तर के राज्य असम और मेघालय आसपास बेच चुका है। गिरोह के सदस्य की प्रोग्रामर के जरिए किसी भी कार को 2 मिनट में चोरी कर लेते हैं। 

 

कार में लगे GPS को फेल करने के लिए गिरोह जैमर का इस्तेमाल करता है। पुलिस को अब इस गिरोह के 5 सदस्यों की तलाश की जा रही है। SSP लव कुमार के मुताबिक, गिरफ्तार चोरों की पहचान सुरीर मथुरा निवासी सगे भाई रवि उर्फ भूप सिंह और विपिन, जसवंतनगर इटावा निवासी सर्वेश, बयाना भरतपुर राजस्थान निवासी सुजान और लक्ष्मी नारायण और मुरैना मध्यप्रदेश निवासी गौरव तोमर के रूप में हुई है। 

यह भी पढ़े: देखें वीडियो: कभी नहीं देखा होगा आपने समुद्र का ऐसा रूप

गौरव ग्वालियर से बीटेक की पढ़ाई कर रहा था। 2016 में उसने अंतिम वर्ष में पढ़ाई छोड़ दी थी। पुलिस को इनके पास से चोरी की 2 क्रेटा, 2 होंडा अमेज, 2 होंडा सिटी और एक स्विफ्ट VDI कार समेत भारी मात्रा में फर्जी नंबर प्लेट, RC, हाईटेक गाड़ियों की चाबी इंटरनेट के जरिये पेयरिंग कराने वाले 2 की प्रोग्राम डिवाइस, 15 मोबाइल फोन, गेयर और हैंडल लॉक आदि काटने के लिए एक बड़ा कटर, हथौड़ी, पेचकस और भारी मात्रा में गाड़ियों के लॉक आदि बरामद हुए हैं।

यह भी पढ़े: देखें वीडियो: इस लड़की के सेक्सी डांस को देखकर आप भी कहेंगे WOW

17 साल से गिरोह सक्रिय, हर माह चुरा लेते थे 12 कारें
SSP के मुताबिक, ये गिरोह 17 साल से कार चोरी कर रहा है। प्रतिमाह ये लोग औसत 10-12 कार चोरी कर लेते हैं। एक वर्ष में ये 100 से ज्यादा कार चोरी कर लेते हैं। गिरोह के सदस्यों को भी सही-सही अंदाजा नहीं है कि वह अब तक कितनी गाड़ियां चोरी कर चुके हैं। 

अधिकारी बनकर ले जाते थे चोरी की गाड़ियां
SSP के मुताबिक, गिरोह के सदस्य कम पढ़े-लिखे होने के बावजूद बहुत तेज हैं। रवि के पास से राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के असिस्टेंट आर्किटेक्ट भूप सिंह नाम का फर्जी पहचान पत्र प्राप्त हुआ है। वह टाई वगैरह पहनकर अधिकारी बन साथियों के साथ चोरी की गाड़ी पूर्वोत्तर ले जाता था। राज भाटिया ड्राइवर और विपिन अगली सीट पर बैठकर सहायक बनता था। इस वजह से न तो इनकी कहीं चेकिंग होती थी और न ही कहीं टोल टैक्स लिया जाता था। रवि सहित गिरोह के कुछ सदस्य फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते हैं।

तिहाड़ और यू-ट्यूब से सीखा चोरी का तरीका
SSP के मुआबिक, सगे भाई रवि और विपिन फरार आरोपी राज भाटिया के साथ दिल्ली-NCR से गाड़ियां चोरी करते हैं। सुजान, लक्ष्मी नारायण और मोंटू राजस्थान से गाड़ियां चोरी करते हैं। सर्वेश, सुबोध और गौरव तोमर लखनऊ, कानपुर और इटावा आसपास वाहन चोरी करते हैं। राजू शर्मा उर्फ गोली उर्फ सरकार तीनों गिरोह के बीच समन्वय रखता है। रहमान चोरी की गाड़ियों को पूर्वोत्तर में खपाता है। रवि, विपिन और राज भाटिया दिल्ली की तिहाड़ जेल में वर्ष 2009 में मकोका में गिरफ्तार किए गए थे। जेल से बाहर आकर इन्होंने यू-ट्यूब से डिवाइस का इस्तेमाल सीखा और फिर बड़े पैमाने पर लग्जरी गाड़ियां चोरी करने लगे।

​क्रेटा की सबसे ज्यादा मांग
गिरफ्तार रवि के मुताबिक, चोरी के वाहन मार्केट में इन दिनों क्रेटा गाड़ी की बहुत मांग है। एक क्रेटा गाड़ी औसत 2 लाख रुपये में बिकती है। इसके बाद होंडा सिटी कार मांग में है। वह लोग ऑडी, मर्सडीज, फरारी और BMW जैसी कारें भी चोरी कर सकते हैं, लेकिन ये गाड़ियां बिकती नहीं हैं। इसलिए बहुत महंगी गाड़ी चोरी नहीं करते हैं।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

More From crime

loading...
Trending Now
Recommended