संजीवनी टुडे

पैराडाइज पेपर्स लीक मामला: भाजपा नेताओं सहित अमिताभ बच्चन का नाम आया सामने

संजीवनी टुडे 06-11-2017 16:35:56

नई दिल्ली। पनामा पेपर्स लीक के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक मामले में सिर्फ भारत से ही सैकड़ों नाम सामने आए है। जिसमें भाजपा नेताओं के नाम भी शामिल हैं। इनमें पूर्व कैबिनेट मंत्री यशवंत सिन्हा के बेटे जयंत सिन्हा और भाजपा सांसद रविंद्र किशोर सिन्हा का नाम भी शामिल है। मामले पर दोनों नेताओं ने सफाई दी है। 

यह भी पढ़े: VIDEO: देखिए, शशिकला कैसे घूम रही है जेल के अंदर!

   

सफाई देते हुए मोदी सरकार में मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा है कि उन्होंने किसी निजी उद्देश्य के तहत कोई लेनदेन नहीं किया है सभी लेनदेन वैध और प्रमाणित हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में मंत्री बनने के बाद उन्होंने डी.लाइट डिजाइन नाम की कंपनी से इस्तीफा दे दिया था और कंपनी से सभी तरह के संबंध तोड़ दिया था। 

भाजपा सांसद आरके सिन्हा ने अपने ही तरीके से इस मामले पर सफाई पेश की है। उन्होंने सात दिनों का मौन व्रत रख रखा है। उन्होंने एक कागज पर लिखकर बताया कि उन्होंने भगवत यज्ञ को लेकर मौन व्रत रखा हुआ है। पैराडाइज पेपर्स विदेशों में कर बचाने के लिए किए गए निवेश या बैंकों में जमा संपत्ति की जांच से संबंधित हैं। वैश्विक स्तर पर 382 पत्रकार और 92 मीडिया संस्थानों नें साथ मिलकर यह खुलासा किया है।

यह भी पढ़े: VIDEO: इस शख्स के करतब को देखकर आपके उड़ जाएंगे होश!

अमिताभ बच्चन का नाम पनामा पेपर लीक के बाद अब पैराडाइज पेपर्स में आया है। इसमें कहा गया है कि अमिताभ बच्चन कौन बनेगा करोड़पति के पहले सीजन के बाद बरमुडा की एक कंपनी के शेयर होल्डर बने। इस कंपनी का नाम जलवा लिमिटेड था जिसे 4 लोगों ने मिल कर स्थापित किया था। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक  2002 में अमिताभ बच्चन और अमेरिका स्थित सिलिकॉन वैली के बिजनेसमैन नवीन चड्ढा 'जलवा बरमूडा' के शेयरधारक बने। रिपोर्ट के मुताबिक चार भारतीय एंटरप्रेन्योर्स ने जनवरी 2000 में कैलिफोर्निया में इसे स्थापित किया। फिर इसी साल फरवरी में भारत में इसे 'जलवा मीडिया इंडिया प्राइवेट लिमिटेड' के नाम से लॉन्च किया गया। इसके बाद जुलाई 2000 में बरमूडा में भी 'जलवा-बरमूडा' नाम से कंपनी खुली जिसके शेयर्स अमिताभ बच्चन ने खरीदे।

दुनिया भर के 90 मीडिया संस्थानों के साथ मिलकर खोजी पत्रकारों के अंतरराष्ट्रीय कंसोर्टियम (आईसीआईजे) ने इनकी जांच की। ज्यादातर दस्तावेज बरमुडा स्थित ऐपलबी कंपनी के हैं जो कानूनी सेवाए मुहैया कराती है। कंपनी के दस्तावेज और कैरिबियाई क्षेत्र के कार्पोरेट रजिस्टर के दस्तावेज जर्मन अखबार ज्यूड डॉयचे त्साइटुंग ने हासिल किए थे। अखबार ने अपने सूत्र सार्वजनिक नहीं किए हैं। लीक के जवाब में ऐपलबी ने कहा है, "हम इस बात को लेकर संतुष्ट हैं कि हमारी ओर से या हमारे क्लाइंट्स की ओर से कुछ भी गलत नहीं किया गया है।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे ! 

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

 
Rochak News Web

More From national

Trending Now
Recommended