संजीवनी टुडे

'कथक क्वीन' सितारा देवी के सम्मान में गूगल ने बनाया 'डूडल'

संजीवनी टुडे 08-11-2017 11:22:28

Google has created a doodle in honor of Kathak Queen star Devi

नई दिल्ली। कथक क्वीन सितारा देवी का आज 8 नवंबर को जन्मदिन है और ऐसे में उनका सम्मान गूगल डूडल के जरिए करे तो यह भारत के लिए गौरव की बात है। इसके जरिए भारतीय संस्कृति और कला का भी सम्मान हो रहा है। बुधवार को गूगल ने 'डूडल' बनाकर सितारा देवी के 97वें जन्मदिवस पर उनको सम्मान दिया हैv

 

 यह भी पढ़े: VIDEO: देखिए, शशिकला कैसे घूम रही है जेल के अंदर!
कथक नृत्यांगना के रूप में विख्यात सितारा देवी का चेहरा और नृत्य आंखों के सामने आ जाता है। सितारा देवी ने अपनी कला के माध्यम से सफलता का जो शिखर हासिल किया था, वहां तक पहुंचने के लिए उन्होंने काफी संघर्ष भी किया है। केवल 16 साल की उम्र में उनका नृत्य देखकर गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर ने उन्हें 'कथक क्वीन' के खिताब से नवाजा था।

पढ़े: गोरखपुर में अलगटपुर बांध टूटने से 4 जिलों में घुसा पानी देखिए VIDEO

सितारा देवी को कला और नृत्य के प्रति उनके विशेष योगदान के लिए 'पद्मश्री' (1970) और 'कालिदास सम्मान' (1994) से भी सम्मानित किया गया है। सितारा देवी के नृत्य निपुणता की हनक इतनी थी कि बॉलीवुड भी उनके सामने नतमस्तक हुआ। कई बॉलीवुड फिल्मों की अभिनेत्रियो को सितारा देवी ने नृत्य के गुर भी सिखाए ताकि उनकी अदाकारी में और निखार आए। इन अभिनेत्रियों में रेखा, मधुबाला, माला सिन्‍हा और काजोल जैसी एक्‍ट्रेस के नाम शामिल हैं।

 
उनका जन्‍म 8 नवंबर, 1920 को कोलकाता में हुआ था। जन्‍म के कुछ दिनों बाद उनके माता-पिता ने उन्‍हें नौकरानी को दे दिया था, क्‍योंकि उनका मुंह थोड़ा टेढ़ा था। इसके बाद नौकरानी ने बचपन में सितारा देवी की खूब सेवा करके उनका मुंह ठीक कर वापस उनके माता-पिता को लौटा दिया। इनके घर में लोग इन्हें धनतेरस को पैदा होने की वजह से धन्नो कहकर बुलाते थे। मशहूर कथक नृत्यांगना सितारा देवी का लंबी बीमारी के बाद 25 नवंबर, 2014 को निधन हो गया. उस समय उनकी उम्र 94 वर्ष थी।

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे

More From national

loading...
Trending Now
Recommended