संजीवनी टुडे

3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

संजीवनी टुडे 02-12-2016 05:34:36

3 against divorce judge wrote letters in blood

नई दिल्ली। देश में तीन तलाक के विरोध का विरोध यू तो काफी दिनों से होता आ रहा है, महिलाएं भी इसके विरोध में खड़ी हैं और स्वयं के लिए न्याय और समानता की गुहार करती नजर आ रही हैं, सरकार की तरफ से पहले ही कहा जा चुका है कि यह कुप्रथा समाज के लिए एक बोझ है इससे समाज में  लिंग भेद बढ़ता है। इसी सिलसिले में एक नए मामले में एक मुस्लिम महिला ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को खून से खत लिखकर अपने लिए न्याय की मांग की है। खत में महिला ने लिखा है कि तीन तलाक को देश से प्रभावी तरीके से समाप्त किया जाए।

तीन तलाक कानून को खत्म किया जाए,
सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस को लिखे खत में महिला ने लिखा है कि देश से तीन तलाक कानून  को खत्म किया जाए, देश में ऐसा कानून होना चाहिए जिससे लोगों को समानता मिले, लिंग भेद ना हो। मेरे पति ने मुझे तलाक दे दिया है, मैं ऐसे किसी भी कानून को नहीं मानती जिसके कारण मेरी और मेरी चार साल के बच्ची की जिंदगी तबाह हो गई है, अगर मुझे इंसाफ नहीं दिया जा सकता है तो मुझे अपनी जान देने की अनुमति दी जाए।

मामले के अनुसार शबाना नाम की औरत की 25 मई 2011 को हुई, पति का नाम टीपू है। शबाना बताती है कि वो नर्सिंग कर चुकी है, पर उसका पति उसे खेतों मंे काम करवाना वाहता था, जब वह ऐसा करने से मना करती तो वो उसे मारता भी था, उसे दहेज के लिए प्रताडित किया जाता रहा। बाद में पति ने किसी और से शादी कर ली, जिसके बाद शबाना ने इसकी रिपोर्ट पुलिस में दर्ज करवाई, और बाद में काफी बातें बढ़ी जिसके बाद टीपू ने उसे तलाक दे दिया। ऐसे में उसका और उसकी चार साल की बेटी तहजीब की जिंदगी बर्बाद सी हो गई है। महिला ने खून से लिखे खत में लिखा है कि मुझे यह तलाक ना तो मंजूर है और ना ही मैं तलाक के इस नियम को मानती हूं। देश से ऐसे कानून को समाप्त किया जाए और मुझे और मेरी बेटी को न्याय मिले।

यह भी पढ़े: जेब में रखे चीनी करेगा मोबाइल चार्ज ये है तरीका

यह भी पढ़े: नोटबंदी से नोटवाली हुई एप्पल, इस तरह हुआ फायदा

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 

More From national

loading...
Trending Now
Recommended