संजीवनी टुडे

Home > Editorial News

Editorial News

श्राद्ध पक्ष में मनाये जाने वाला लोकपर्वःसंझा
सम्पूर्ण देश में लोक पर्व भिन्न-भिन्न स्वरूपों में मनाये जाने की परम्परा है।इसी में से एक संजा लोक पर्व है जिसे संझा पर्व भी कहते हैं जो मध्य प्रदेश, राजस्थान,गुजरात एवं उत्तर प्रदेश के कुछ क्षेत्रीय ...
चर्चा और चिन्ता प्रधान देश
यह देश चर्चा और चिंताओं का देश है। यहां बात-बात पर चर्चा और हर बात पर चिंता जाहिर की जाती है। यहाँ लोग चिंता और चर्चा न करें तो उनका खाना हजम नहीँ होता है। घर, बाहर , अड़ोस-पड़ोस सभी जगह, चुहुँ ओर चर्चा...
पितरों के प्रति श्रद्धा और स्मृति का महापर्वः पितृपक्ष
इस वर्ष पितृपक्ष 24 सितम्बर सोमवार पूर्णिमा तिथि से प्रारम्भ होकर 8 अक्टूबर सोमवार सर्वपितृ अमावस्या अर्थात महालय अमावस्या तक रहेगा।महालय अमावस्या पर विशेषतः उन मृत पूर्वजों का श्राद्ध-तर्पण करने का व...
पाकिस्तान पर भरोसा क्यों करें?
पाकिस्तान खौफनाक एवं वीभत्स आतंकवाद को प्रोत्साहन देता रहे और दुनिया को दिखाने के लिये शांति-वार्ता का स्वांग भी रचता रहे, इस विरोधाभास के होते हुए भी हम कब तक उदारता एवं सद्भावना दर्शाते रहे? जम्मू-क...
झूठ बोले कोई ना काटे…..!
ये कह रहे हैं कि वे झूठे हैं और वे कह रहे हैं कि ये झूठे हैं । दोनों ही एक दूसरे को झूठा बता रहे हैं।ऐसे में यह पंक्तियाँ याद आती है- “एवे दुनिया देवे दुहाई झूठा पांवदी शोर, अपने दिल ते पू...
देश में खुले सफाई प्रशिक्षण केन्द्र
गत दिनो दिल्ली के कैपिटल ग्रीन डीएलएफ अपार्टमेंट में सीवर की सफाई करते हुए पांच लोगों की मौत हो गई थ। इसी तरह दिल्ली के घिटोरनी इलाके के सीवर में काम करते हुए चार लोगो की मौत हुई थी। 6 अगस्त 2017 को ल...
"आरक्षण-राजनैतिक होता सामाजिक मुद्दा"
पाटीदारों के लिए सरकारी नौकरियों और उच्च शिक्षण संस्थानों में आरक्षण और किसानों की कर्जमाफी की मांग करते हुए हार्दिक पटेल 25अगस्त 2018 महाक्रांति रैली की तीसरी सालगिरह पर अनशन पर बैठे थे। इस अनशन के ट...
हेलीकॉप्टर इला में फिर चलेगा रुक रुक का मैजिक
90 के दशक का चार्टबस्टर सॉन्ग "रुक रुक" किसे याद नहीं होगा। अजय देवगन और तब्बू की फिल्म 'विजयपाथ' का यह गीत श्रोताओं के दिलो—दिमाग पर छा गया था। अब यही गीत एक नए रूप में वापस आ...
विश्व शांति दिवस 21 सितम्बर पर विशेष
शांति शक्ति का प्रतीक है। एक ऐसी शक्ति जो हमें असीम ऊर्जा से भर देती है। जो हमारे अन्तःकरण में सकरात्मक विचारों का स्त्रोत प्रस्फुटित करती है। हमारे भावों को पावन करती है। शांति के द्वारा ही शुचिता के...
अशांति अंधेरा है और शांति उजाला है
विश्व शांति दिवस अथवा अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस प्रत्येक वर्ष 21 सितम्बर को मनाया जाता है। यह दिवस सभी देशों और लोगों के बीच स्वतंत्रता, शांति, अहिंसा और खुशी का एक आदर्श माना जाता है। यह दिवस मुख्य रू...
मतदाता को मुखर होना होगा
भारतीय राजनीति की अनेक विसंगतियों एवं विषमता में एक बड़ी विसंगति यह है कि राजनेताओं सुविधानुसार अपनी ही परिभाषा गढ़ता रहा है। अपने स्वार्थ हेतु, प्रतिष्ठा हेतु, आंकड़ों की ओट में नेतृत्व झूठा श्रेय लेता ...

<< 1 >>
Trending Now
Recommended