संजीवनी टुडे

Home > Editorial News

Editorial News

घरेलू महिलाओं के श्रम का आर्थिक मूल्यांकन
इनदिनों दावोस में चल रहे वल्र्ड इकनॉमिक फोरम में ऑक्सफैम ने अपनी एक रिपोर्ट ‘टाइम टू केयर’ प्रस्तुत की है, जिसमें उसने घरेलू औरतों की आर्थिक स्थितियों का खुलासा करते हुए दुनिया को चैका दिया है।
गणतंत्र की चुनौतियां और हमारे संवैधानिक दायित्व
हमारा देश 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मानाने जा रहा है। इस दिन भारत को गणतांत्रिक राष्ट्र घोषित किया गया था। इसी दिन स्वतंत्र भारत का नया संविधान लागू हुआ था। गणतंत्र दिवस के दिन हमें अपने संविधान पर सार्थक चर्चा और मंथन करने की महती जरुरत है।
गणतंत्र दिवस विशेष/ भारतीय संविधान: कुछ रोचक तथ्य
सर्वप्रथम सन् 1895 में लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने मांग की थी कि अंग्रेजों के अधीनस्थ भारतवर्ष का संविधान स्वयं भारतीयों द्वारा ही बनाया जाना चाहिए
इंटरनेट सेवाओं पर पाबंदी के निहितार्थ
अंततः 166 दिनों की बेहद लंबी अवधि के बाद घाटी के लोगों ने उस समय सुकून भरी सांस ली, जब वहां 18 जनवरी को प्रीपेड मोबाइल सेवा शुरू कर दी गई। 5 अगस्त 2019 को इन सेवाओं पर अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ऐहतियात के तौर पर प्रतिबंध लगाया गया था

<< 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ... Next >>
Recommended