संजीवनी टुडे

अपने घरों में रहकर हरायेगें कोरोना को

रमेश सर्राफ धमोरा

संजीवनी टुडे 28-03-2020 14:35:33

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है। आज पूरी दुनिया कोरोना वायरस की बीमारी से त्रस्त नजर आ रही है। कोरोना बीमारी को मध्य नजर रखते हुए भारत में भी 21 दिन का लॉक डाउन किया जा चुका है।


विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है। आज पूरी दुनिया कोरोना वायरस की बीमारी से त्रस्त नजर आ रही है। कोरोना बीमारी को मध्य नजर रखते हुए भारत में भी 21 दिन का लॉक डाउन किया जा चुका है। भारत सरकार व देश के सभी राज्यों की सरकारें मिलकर कोरोना वायरस की रोकथाम के प्रभावी उपाय कर रही है। देश में रेल, सड़क, हवाई यातायात बंद किए जा चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बार-बार देश के जनता से अपील कर रहे हैं कि वह 21 दिन तक अपने घरों में ही रहे घरों से बाहर नहीं निकले। आपस में सोशल डिस्टेंस मेंटेन करें ताकि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को रोका जा सके।

प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कह चुके है कि कोरोना एक वैश्विक महामारी है। जो दुनिया के लगभग 196 देशों को अपनी गिरफ्त में ले चुकी है। इस महामारी का अभी तक दुनिया में कोई ईलाज भी नहीं खोजा जा सका है जो एक बड़ी चिंता का कारण है। मौजूदा परिस्थितियों में लोगों का अपने घरों से बाहर नहीं निकलना ही इससे बचाव का सबसे कारगर उपाय है। कोरोना वायरस एक दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से तेजी से फैलता है। मोदी ने बताया कि कोरोना वायरस से दुनिया में 67 दिन में एक लाख लोग इस वायरस की चपेट में आये थे। फिर अगले 11 दिनों में एक लाख नये लोग इसके संक्रमण के शिकार हो गए। फिर अगले 4 दिनों में ही एक लाख और नये लोग इसके संक्रमण के शिकार हो गए।

इसके फैलने का मुख्य कारण है कि है आपसी संपर्क। आपसी संपर्क से कोरोना एक दूसरे में तेजी से फैलता है। इसके संक्रमण को रोकने के लिए इसके फैलाव की चेन को तोड़ना बहुत जरूरी है। कोरोना का फैलाव तभी रुक सकता है जब व्यक्ति एक स्थान से दूसरे स्थान पर न जाएं। एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के संपर्क में ना आए। पूर्णतया अपने घरों में कैद हो कर रहे और एक दूसरे से दूरी बनाये रखे।

भारत में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक देश में कुल पॉजिटिव लोगों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। अब तक भारत में 724 कोरोना वायरस के मरीज सामने आ चुके हैं। इनमें से 66 मरीजों का इलाज हो चुका है वहीं 17 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसके साथ ही 641 मरीजों का अभी इलाज जारी है। देश में लाक डाउन के बावजूद लोग अपने घरों से बाहर आ रहे हैं। ऐसे में पुलिस को लोगों पर सख्ती भी बरतनी पड़ रही है।

भारत में कोरोना पॉजिटिव की दिनोदिन बढ़ती संख्या को ध्यान में रखते हुए पंजाब, चंडीगढ़ व महाराष्ट्र में कर्फ्यू  लगाया जा चुका है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा भी है कि आवश्यकता पड़ने पर देश में अन्य स्थानों पर भी कर्फ्यू लगाया जा सकता है। भारत में काफी संख्या में विदेश से आए लोग अपने घरों में दुबके हुए हैं। बाहर से आये लोग अपनी मेडीकल जांच नहीं करवा रहे हैं। इससे इस रोग के संक्रमण फैलने का संभावना और अधिक बढ़ गई है। हाल ही में जितने मरीज सामने आए हैं उनमें से अधिकांश विदेशों से आए हुए संक्रमित लोग हैं या उनके संपर्क में आकर संक्रमित हुए लोग हैं। इसीलिए सरकार चाहती है कि लोग इस वैश्विक महामारी का मुकाबला करने के लिए सरकार का पूरा सहयोग दें। सरकार भी लोगों को किसी तरह की परेशानी ना हो इसके लिए पूरे उपाय कर रही है। सरकार  विभिन्न प्रकार की व्यवस्था बनाने में जुटी हुई है। केंद्र व राज्य सरकार मिलकर पूरे समन्वय के साथ कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के काम में लगे हुयें हैं।

चिकित्सा विभाग के सभी कर्मचारी दिन रात इस बीमारी से पीडि़त लोगों के उपचार में लगे हुए हैं। स्वास्थ्य कर्मी, सफाई कर्मी, पुलिसकर्मी, विद्युत कर्मी नगरपालिकाओं व ग्राम पंचायतो के कार्मिक, शिक्षको सहित अन्य आवश्यक सेवाओं के कर्मचारी रात दिन देश की जनता की सेवा करने में जुटे हुए हैं। ऐसे में देश के लोगों को भी चाहिए कि वे सरकार का पूरा सहयोग करें व सरकार द्वारा जारी निर्देशों का शत-प्रतिशत पालन करें। ताकि इस महामारी से सभी मिलकर सुरक्षित निकल सके।

दुनिया में चिकित्सा के क्षेत्र में सबसे अधिक अग्रणी माने जाने वाले सभी देश भयंकर रूप से कोरोना वायरस की चपेट में आए हुए हैं। दुनिया भर में चार लाख 51 हजार से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। इससे मरने वालों की संख्या 20,000 के पार पहुंच गयी है। पिछले 24 घंटों में इटली में कोरोना वायरस से 683 लोगों की जान गई है। अब तक स्पेन में चार हजार और अमरीका में 1,000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। चीन के बाद इटली, अमरीका, स्पेन, जर्मनी, ईरान, फ्रांस और दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक मामले दर्ज हुए हैं। खाड़ी देशों में भी यह वायरस तेजी से फैला हुआ है।

ऐसे में हमें चाहिए कि हमारे आस पास कोई भी व्यक्ति विदेशों से या देश के किसी भी प्रांत से आता है तो उसकी सूचना तत्काल चिकित्सा विभाग को दें। ताकि उसकी समय पर जांच हो सके और यदि वह कोरोना वायरस से प्रभावित पोजिटिव पाया जाता है तो उसको अन्य लोगों से अलग किया जा सके। जिससे अन्य लोग इसकी चपेट में आने से बच सकें। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने उद्बोधन में कहा था कि बचाव ही इसका एकमात्र उपाय है। इसलिए इस वायरस का सबसे प्रभावी उपाय है अपने आप का बचाव करना व दूसरों के संपर्क में नहीं आना।

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए मोदी सरकार ने 1 लाख 70 हजार करोड़ के बड़े राहत पैकेज की घोषणा की है। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 80 करोड़ लोगों के लिए सुनिश्चित किया जाएगा कि कोई भी भूखा न रहे। हर व्यक्ति को मुफ्त में अगले तीन महीने तक प्रतिमाह 5 किलो गेंहू या चावल तथा एक किलो दाल दी जाएगा। वहीं अप्रैल के पहले हफ्ते में किसानों के खातों में 2 हजार रूपये डाले जायेगें जिसका देश के 8 करोड़ 70 लाख किसानों को इसका लाभ मिलेगा। मनरेगा के मजदूरों को मिलने वाली राशि को भी 20 रूपये प्रतिदिन बढ़ाया जाएगा। इससे देश के पांच करोड़ परिवार को लाभ मिलेगा।

3 करोड़ गरीब बुजुर्गों, विधवा और दिव्यांगों को को तीन माह तक 1 हजार रुपए दिए जाएंगे। इसका लाभ 3 करोड़ गरीब बुजुर्गों, विधवा और दिव्यांगों को मिलेगा। 20 करोड़ महिलाएं जिन्होंने जन धन खाता खोला हुआ है उनके इस खाते में अगले तीन महीने तक 500-500 रुपए की राशि जमा की जाएगी। उज्जवला स्कीम का लाभ लेने वाली महिलाओं को अगले तीन महीने तक उन्हें 3 घरेलू गैस निशुल्क रिफिल किये जायेगें। जिसका 8.2 करोड़ बीपीएल परिवार को लाभ मिलेगा। 20 लाख चिकित्सा कर्मियों की सरकार 50 लाख की बीमा करवायेगी।

केंद्र व राज्य सरकारें लोगों को राहत के लिए अन्य विभिन्न प्रकार के उपायों पर भी विचार कर रही है। जिसको भी घोषणा सरकार यथाशीघ्र करने वाली है। मौजूदा हालात में घरों से बाहर निकलकर लोग कोरोना संक्रमण का खतरा उठा रहें हैं। लोगों को चाहिए कि वैश्विक आपदा की इस घड़ी में सरकार का साथ दें। सभी देशवासी मिलजुल कर एकजुटता से इस वैश्विक महामारी का मुकाबला करें। कोरोना वायरस की तुलना महाभारत के युद्ध से करते हुये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि जिस तरह महाभारत का युद्ध 18 दिनो में जीता गया था। वैसे ही देशवासी 21 दिनो तक अपने घर में ही रह कर कोरोना को भी हरा सकेगें।

 

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From editorial

Trending Now
Recommended