संजीवनी टुडे

लॉकडाउन में किताबों को बनाएं साथी

हर्षित कुमार

संजीवनी टुडे 31-03-2020 17:31:25

कोरोना के गहराते संकट को देखते हुए देशभर में लॉकडाउन है। हर कोई अपने स्तर पर इस महामारी से निकलने की कोशिश कर रहा है। कोरोना के संकट के कारण हम और आप घर पर बैठकर बोर हो रहे हैं।


कोरोना के गहराते संकट को देखते हुए देशभर में लॉकडाउन है। हर कोई अपने स्तर पर इस महामारी से निकलने की कोशिश कर रहा है। कोरोना के संकट के कारण हम और आप घर पर बैठकर बोर हो रहे हैं। अगर ऐसा है तो आप इस लॉकडाउन में अच्छे दोस्त बना सकते हैं और बहुत सारे फ़ायदे अर्जित कर सकते हैं। करना सिर्फ इनता है कि दोस्त का चयन करना है और उसके साथ बैठकर ज्ञान अर्जित करें। आप इस लॉकडाउन में किताब को अपना साथी बना सकते हैं और अपने समय का सदुपयोग कर सकते हैं। किताब पढ़ने के बहुत सारे फ़ायदे हैं जो आपके लिए इस महामारी के समय लाभदायक हो सकता है।

हममें बहुत लोग पढ़ने शौकीन हैं, वो कोई भी पुस्तक पढ़ने लगते हैं वास्तव में पढ़ने से स्वास्थ्य संबंधी कई फायदे होते हैं। जो हमें दिखते नहीं हैं पर वो हमारे मन मस्तिष्क को प्रभावित करते हैं। अगर आप नियमित रूप से किताब नहीं पढ़ते हैं तो आपको इसे शौकिया तौर पर ही इस लॉकडाउन में शुरू कर देनी चाहिए। हर दिन एक किताब के कुछ पन्ने को पढ़ सकते हैं, किताब को पढ़ने की धीरे-धीरे आदत डालें और इससे कई फायदे आप समाहित कर सकते हैं।

मस्तिष्क का अभ्यास
किताब पढ़ने के दौरान आप के दिमाग का अभ्यास होता है। पढ़ने के दौरान आपका दिमाग जितना उत्तेजित होता है, शांतचित्त महसूस करता है, उतना टीवी देखने या मोबाइल चलाते वक्त नहीं होता है। जाहिर-सी बात है कि जब आपके मस्तिष्क का अभ्यास होगा तो दिमाग स्वस्थ भी रहेगा। आप अपने मन मस्तिष्क को सोचने-विचारने का वक्त दे सकते हैं। जब आप फिक्शन पढ़ते हैं तो आपका दिमाग कहानी के सभी कैरक्टर, सारी घटनाओं और कहानी के प्लॉट को याद रखता है। यानी रोजाना पढ़ने का मतलब अपनी याददाश्त का अभ्यास कराना है और अभ्यास से चीजें मजबूत होती हैं।

तनाव कम करने में सहायक
अगर आप इस समय घर पर बैठे हैं और कोई कम नहीं है तो आप तनाव के शिकार हो सकते हैं। तो आप इस खाली समय में किताब को तनाव मुक्ति का साधन भी बना सकते हैं। जब आप किताब पढ़ते हैं तो तनाव के स्तर में कमी आती है क्योंकि पढ़ते वक्त आप किताब के पात्रों में उसके संवाद में खो जाते हैं और आपका दिमाग कहीं और चला जाता है। इससे तनाव कम होता है और आप रिलैक्स महसूस करते हैं।

नींद में सहायक
अगर आप किताबें पढ़ते हैं तो अच्छी नींद में आपको मदद मिल सकती है। पढ़ने से आप रिलैक्स फील करते हैं, इससे सही नींद आती है। आप जब टीवी, मोबाइल में लगे रहते हैं तो आपकी नींद पूरी नहीं हो पाती है। इलेक्ट्रॉनिक्स की कृत्रिम लाइट आपके दिमाग को संकेत देती है कि अभी जागने का समय है इसलिए जब आपको सोना हो तो उससे एक घंटे पहले टेलीविजन, सेल फोन से परहेज करें। यह और भी आपकी नींद में सहायक है।

अभी नहीं देने होंगे पैसे
संकट के इस क्षण में कुछ वेबसाइट और संस्थाएं लोगों को घर में रहने में मददगार की भूमिका में सामने आ रही हैं। इसी क्रम में नेशनल बुक ट्रस्ट की ये पहल भी सराहनीय है। कोरोना वायरस संकट की वजह से लॉकडाउन में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तहत आने वाले नेशनल बुक ट्रस्ट ने लोगों को घरों में रहने को प्रोत्साहित करने के लिए #StayHomeIndiaWithBooks की पेशकश की है। आप इसका फायदा लेकर किताब को अपना दोस्त बना सकते हैं। इसके तहत नेशनल बुक ट्रस्ट की चुनिंदा और बेस्ट-सेलिंग किताबों को मुफ्त डाउनलोड करने की सुविधा है।

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।)

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From editorial

Trending Now
Recommended