संजीवनी टुडे

हाय ये क्या, ’प्याज’ की भी चोरी होने लगी!

-डाॅ विलास जोशी

संजीवनी टुडे 08-12-2019 14:54:09

मध्यप्रदेश राज्य के मंदसौर शहर में एक चोर ने एक किसान के खेत में से छः क्विंटल प्याज चुरा लिया, जिसकी कीमत करीबन 25 हजार रूपए होती है। इस प्याज चोरी का नतीजा यह हुआ कि इस क्षेत्र के किसान रात को अपने खेतों में पहरा दे कर प्याज चोरी रोकने में लगे हुए है।


मध्यप्रदेश राज्य के मंदसौर शहर में एक चोर ने एक किसान के खेत में से छः क्विंटल प्याज चुरा लिया, जिसकी कीमत करीबन 25 हजार रूपए होती है। इस प्याज चोरी का नतीजा यह हुआ कि इस क्षेत्र के किसान रात को अपने खेतों में पहरा दे कर प्याज चोरी रोकने में लगे हुए है। पहले कीमत न मिलने के कारण प्याज ने किसान को रूलाया, अब खेतों से बड़ी मात्रा में प्याज चोरी की घटनाओं के कारण उसकी आंखों में आंसु है। इस समाचार की स्याई सुखी भी नहीं थी कि प्याज चोरी की एक और घटना मोहाली में हो गई। वहा एक होटल से दो महिलाएं 40 किलो प्याज चुराकर ले जाने की घटना सीसीटीवी पर कैद हो गई है। हाय, क्या जमाना आ गया हेै कि प्याज जैसी चीज भी अब चोरी होने लगी है।

जब एक अमेरिकी पर्यटक, जो कि भारत आया है,उसने  प्याज चोरी की घटना का समाचार अखबार में पढ़ा तो उसे हंसी आ गई,तब उसके पास खडे़ एक भारतीय ने उस पर तंज कसते हुए कहा-’’ हंसों मत, हमारे ’एक किलो प्याज की कीमत’ आज तुम्हारे ’’एक डाॅलर’’ की कीमत पर भारी है।  एक डालर की कीमत करीब 72 रूपए के बराबर है, जबकि एक किला प्याज 90 से 100 रूप्ए तक बिक रहा है’’। यकीन मानिए आज प्याज की कीमत  आम आदमी के आंखों में आंसू ला रहीहै, वही यह सरकार के लिए ’माईग्रेन’ बनी हुई है,जो सिरदर्द  की भी इंतहा है। अब तो लोग भी दबी छुपी जुबान में यह कहने लगे है कि कहीं किसी ने प्याज के लिए ही तो यह नहीं कहा था कि -’न खाउंगा और न खाने दुंगा’!

प्याज चोर की बात चली है ता बता दूं कि हमार देश में चोर भी नाना प्रकार के पाए जाते है। यदि आप किसी मंदीर के बाहर खड़े हो जाए तो वहां आपको ’’चप्पल चोर’’ नजर आएंगे।  अब जो बात मैं आपको बता रहा हूं, शायद उस  पर आपको  यकीन नहीं आएगा, लेकिन यह बात है सौ फीसदी एकदम सही है। ’’गर्मी के दिनों’’ में हमारे यहां ’’पानी की भी चोरी’’ होती है। पडोसी लोग आधी रात के बाद अपनी छत से अपने पडोसवाले के छत पर रखी पानी की टंकी में एक लम्बा सा पाईप डालकर ’’साईफन विधि’’ का प्रयोग कर अपनी छत पर रखी अपनी की टंकी में सारा पानी उतार लेते है और पडोसी को कानों कान खबर तक नहीं होती। उसे तो सुबह ही पता चलता है,जब उसे अपनी पानी की टंकी खाली नजर आती है।

एक चोर और है, जो युवक -युवतियों की आंखों से उनकी ’’नींद चुरा’’ लेता है। जब किसी युवक को किसी युवतीे से प्यार  हो जाता है, तब प्रेमी उसकी प्रेमिका को कहता है-’’ तुमने  तो मेरी आंखों से रातों की निंदिया ही चुरा ली है। फिर प्रेमिका कहती है चोर तो चुपके से किसी के यहां चोरी करता हेै, तुमने तो सरेराह, दिन के उजाले मेें मेरा दिल चुरा लिया है। अब इन चोरों को आप क्या कहेंगे?

एक चोर और है, जिसे चोर कहा जाए या नहीं इसका निर्णय आप कीजिएगा। कुछ लोग सुबह की सैर के लिए  रोजाना अलसुबह निकलते है आर सैर के दौरान  यदि उन्हे किसी के घर या बंगले  मं लगे झाड- पेड़ पर ताजे ’फुल और फल’ नजर आ जाए तो वे आहिस्ता से चुपके चुपके उन्हे तोड़ लेते है। अब ऐसे ’’फुल और फल चोरों’’ को चोर कहा जाए या नहीं यह आप ही बताइए?

खैर, अपनी तो ’’प्याज चोर पर बात चली रही थी। कलयुग में ऐसा भी समय आएगा कि चोरों का चोरी करने का स्तर इतना गिर जाएगा, ऐसा तो कभी सोचा ही नहीं था। एक जमाना था जब’ ये रातों के  राजा’ उर्फ चोर सिर्फ सोना, चांदी और हिरे जवाहारात पर ही अपने हाथ आजमाते थे, लेकिन हे भगवान, ये क्या, अब चोर प्याज तक भी चुराने लगे? क्या चोरों के ’’इतने बूरे दिन’’ आ गए है? अब आगे यह देखना बहुत ही दिलचस्प होगा कि आनेवाले दिन इन चोरों के चोरी करने के स्तर को और कितना नीचा गिराते है। यकीन मानिए, कोई ताज्जूब नहीं होगा यदि कल को हमें यह समाचार भी पढ़ने को मिले कि-’’चोर सड़़क पर पडे़ ’पत्थर’ चुराकर ले गए’’।  

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From editorial

Trending Now
Recommended