संजीवनी टुडे

हर गुण के गौरव है गौरी नंदन- ’गणेश जी’

डाॅ. विलास जोशी

संजीवनी टुडे 12-09-2018 21:37:34


भादों माह की ’चतुर्थी’ यानी ’’गणेश चतुर्थी’’।  इस दिन से 10 दिवसीय  ’गणेशोत्सव ’का प्रारंभ होता है। गणेशजी गणनायक है,इसलिए  सर्वप्रथम उनकी पूजा की जाती है। मंगलमूर्ति गणेशजीकी सर्वप्रथम पूजा करनेका एक कारण यह भी है कि-जब कभी भक्तों पर संकट आता है,तब वे  सर्वप्रथम उसके संकट निवारण के लिए  आते हैऔर कष्ट मिटाते है।

श्री गणेशजी बुद्धिदाता है, इसलिए ’कवि’ और ’लेखकों’ के प्रिय देवता है। भगवान विष्णु और शंकर तक  गणेशजी  को बहुत मानते है। क्योंकि, समस्त श्रृष्टि के वे ’’संचालक और नियामक’’ है। सब देवताओं के ’’गणदेवा ’’ है।इतना सर्वोच्च मान होने  पर भी वे ’’आज्ञापालक है,’’ ’’शिवपालक’’ है।

गणेशजी  ’सुखकर्ता’ भी है और  ’दुःखहर्ता’ भी है,इसलिए उन्हे ’’अनाथों का नाथ ’’ कहा जाता है। वे मंगलदायक मंगलकारी है,इसलिए कहीं भी कुछ भी शुभ कार्य हो तो  सर्वप्रथम उनका आव्हान कर उनकी पूजाकी जाती है।गणेशजी की पूजा होने के बाद किसी भी कार्य में कोई  अमंगलकारी बात ,कष्ट,बाधा  नहीं आती । क्योंकि, वे सारे कष्ट और बाधाओं को बांध देेते है,फिर अनिष्ट कैसे होगा ?

गणेशजी की किसी भी प्रतिमा को देख लिजिए वह ’मनमोहक ’ लगती है। सच तो मोदकप्रिय  गणेशजी है ही बहुत सुुंदर और आकर्षक भी।  वे एक दंत चतुर्भज है, चार हाथों में पाक्ष अकुंश, अभय और वरदान की मुद्रा लिए होत है।

इस विद्यासुखदाता के चेहरे पर सुरज का कोटी कोटी तेज है। गणेशजी की एक चित्त होकर आराधना करने पर  वे अपार  धन सम्पति तो देते ही है, साथ ही में भक्तों को कभी भी किसी काल में भूत प्रेत बाधा भी नहीं होने देते।
गणेश गायत्री  का एक मंत्र है-
                       ’’ एक दंताय विदमहे।
                          वक्रतुण्डाय धीमहि
                         तन्नो दंती प्रचोदयात ’’।

इस मंत्र का नित्य जाप करने वाले भक्तों के विघ्न भी वे तत्काल हर लेते है।विद्वान कहते है कि ’’ जो गणेशजी की नित्य आराधना करते है वह त्यागी सब योनियों में श्रेष्ठ है तथा मोक्ष को प्राप्त  करता है’’।
’गणेश चतुर्थी’ से लेकर  ’अनंतचैदस ’तक के दस दिन यानी भक्तों के लिए खुशियों भरा ’अप्रतिम  खजाना’। ......और  फिर उनके भक्तों को चाहिए भी क्या? जब वे ही सारे दुःखों के तारण हार है और सुखकर्ता भी।

sanjeevni app

More From editorial

Trending Now
Recommended