संजीवनी टुडे

क्या भाजपा को मिल गया ब्रह्मास्त्र

संजीवनी टुडे 20-03-2019 09:31:54


लोकसभा चुनावों की प्रक्रिया और राजनीतिक दलों का चुनाव प्रचार अभियान आगे बढ़ने लगा है। सभी दल अपने गठबंधन बनाने और नये नारों की तलाश में तेजी से जुटे हुए हैं। राफेल विवाद को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमलावर हो रहे हैं। अब वह अपनी रैलियों में चौकीदार और चोरी के नारे लगवा रहे हैं। लेकिन सरकार में आने के बाद वह क्या करने वाले हैं, यह बात जनता को नहीं बता पा रहे हैं। न ही राफेल पर पक्के सबूत पेश कर पा रहे हैं। बेशक, राहुल गांधी ने जिस प्रकार से नारा लगवाना शुरू किया, उससे भाजपा नेतृत्व दबाव महसूस करने लगा था। लेकिन पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती आतंकी हमला और वायुसेना की एयर स्ट्राइक के बाद देश का राजनीतिक परिदृश्य बदला है। जनमानस में कुछ हद तक राष्ट्रवाद की बयार बहने लगी है। भाजपा के कार्यकर्ताओं में एकबार फिर 'हाउ इज द जोश' का नारा बुलंद हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने माहौल भुनाने की पूरी तैयारी कर ली है। मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

एयर स्ट्राइक के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नारा दिया था कि 'मोदी है तो मुमकिन है।' यह नारा सभी दलों व मीडिया तथा जनमानस में गूंज रहा था। लेकिन अब प्रधानमंत्री मोदी ने एक और नारा दे दिया है। वह है 'मैं भी चौकीदार।' यह नारा चर्चा में आ गया है। सोशल मीडिया के माध्यम से यह पूरी दुनिया में छा गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर हैंडिल से चुनाव प्रचार को धार देते हुए 'मैं भी चौकीदार' की मुहिम शुरू की। यह दो घंटे के भीतर ही मीडिया व सोशल मीडिया में छा गया। टीवी चैनलों पर चर्चा होने लगी। राजनीतिक विश्लेषकों का कहना था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इस अभिनव प्रयोग से कांग्रेस के झूठ पर आधारित प्रचार को नेस्तनाबूद करने के लिए यह अभियान शुरू किया है। जिस प्रकार कांग्रेस ने 2013 में पीएम मोदी पर चायवाला कहकर हमला बोला था और फिर उसे ही मोदी ने लपककर कांग्रेस को सत्ता से बाहर करने में सफलता हासिल कर ली थी। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वही तरीका इसबार भी अपनाया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'मैं भी चौकीदार' के माध्यम से राहुल गांधी के नारे की धार को कुंद करने का अभिनव प्रयोग किया तो है लेकिन यह कितना सफल और असरकारी होगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा।

प्रधानमंत्री ने अपने 3 मिनट 45 सेकंड के वीडियो के साथ अपने ट्वीट में कहा कि आपका यह चौकीदार राष्ट्र की सेवा में मजबूती के साथ खड़ा है लेकिन मैं अकेला नहीं हूं। उन्होंने कहा कि हर कोई जो भ्रष्टाचार, गंदगी, सामाजिक बुराइयों से लड़ रहा है, वह चौकीदार है। उन्होंने कहा कि आज हर भारतीय कह रहा है कि 'मैं भी चौकीदार हूं'। प्रधानमंत्री मोदी अक्सर स्वयं को ऐसा चौकीदार बताते आये हैं जो भ्रष्टाचार की अनुमति तो नहीं ही देगा स्वयं भी भ्रष्टाचार से मुक्त रहेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना यह अभियान आगामी 31 मार्च से शुरू करने जा रहे हैं। सोशल मीडिया में भी चौकीदार जबर्दस्त तरीके से वायरल हो रहा है।

मोदी जी का वीडियो जारी होने के बाद ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, कांग्रेस प्रवक्ताओं तथा विपक्ष के नेताओं ने भी तंज कसने शुरू कर दिए। सबसे अधिक विकृत मानसिकता का बयान बसपा की मायावती ने दिया है। मायावती का कहना है कि विनाश काले विपरीत बुद्धि। सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री की तीखी आलोचना भी की जा रही है। दूसरी ओर जब प्रधानमंत्री ने इसके अगले दिन अपने नाम के आगे चौकीदार लिखकर प्रकरण को आगे बढ़ाया तब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से लेकर उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित भाजपा के कई नेताओं व मुख्यमंत्रियों, मंत्रियों, सांसदों, विधायकों और महापौर आदि ने अपने नाम के आगे चौकीदार लिखकर अभियान को तेजी से आगे बढ़ाया है। मोदी के इस अभियान को सिक्योरिटी गार्ड एसोसिएशन सहित तमाम चौकीदारी में लगे संगठनों का सहयोग व समर्थन हासिल हो रहा है। भारतीय राजनीति में नारों का अलग ही महत्व रहा है। अब यह सभी नारे सोशल मीडिया के माध्यम से वायरल होकर जन-जन तक पहुंच रहे हैं।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

यह आगामी चुनावों में मील का पत्थर साबित हो सकता है। सभी के दिल और दिमाग पर यह नारा सिर चढ़कर बोल रहा है। मोदी व भाजपा विरोधी लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से काफी तीखे सवाल पूछ रहे हैं, जिसका उन्हें जवाब भी मिल रहा है। अभी यह नारा कितनी दूर तक भाजपा व कांग्रेस की मदद करने जा रहा है कुछ नहीं कहा जा सकता। अपने नारे के माध्यम से प्रधानमंत्री ने पार्टी कार्यकर्ताओं व सभी उम्मीदवारों को भी संदेश दे दिया है कि जिस प्रकार वह दिल्ली में बैठकर देश व भाजपा के लिए चौकीदारी कर रहे हैं, उसी प्रकार हर लोकसभा उम्मीदवार व कार्यकर्ता को सतर्क होकर चौकीदारी करनी होगी। तभी भाजपा का मिशन 300 का अभियान कामयाब हो पाएगा।

More From editorial

Loading...
Trending Now