संजीवनी टुडे

निर्भया के दोषी फांसी का समय करीब देख पहुंचे अवसाद में और किया खाना-पीना...

संजीवनी टुडे 14-12-2019 11:09:44

निर्भया मामले के दोषियों को फांसी देने की तारीख अभी तय नहीं हुई है, लेकिन जेल प्रशासन ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है। इसके लिए फांसी के चार तख्त तैयार किए गए हैं। तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल समेत वरिष्ठ अधिकारियों ने शुक्रवार को जेल का दौरा कर दोषियों को फांसी पर लटकाने की तैयारियों का जायजा लिया


नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप और हत्या के चारों दोषी डिप्रेशन में हैं। तिहाड़ जेल के सूत्रों के अनुसार इस वजह से उन्होंने खाना-पीना कम कर दिया है। सूत्रों ने बताया कि चारों दोषियों- अक्षय ठाकुर, मुकेश, पवन गुप्ता और विनय शर्मा के साथ चार-पांच सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है, ताकि हताशा में आकर वो खुद को कोई नुकसान न पहुंचा सकें। निर्भया मामले के दोषियों को फांसी देने की तारीख अभी तय नहीं हुई है, लेकिन जेल प्रशासन ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है। इसके लिए फांसी के चार तख्त तैयार किए गए हैं। तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल समेत वरिष्ठ अधिकारियों ने शुक्रवार को जेल का दौरा कर दोषियों को फांसी पर लटकाने की तैयारियों का जायजा लिया और संतुष्टि जाहिर की. इस चर्चित मामले की कोई जानकारी लीक न हो, इसके लिये तिहाड़ जेल के अधिकारियों के फोन निगरानी पर लगा दिये गए हैं। 

ये खबर भी पढ़े: हैदराबाद में फिर और एक लड़की से दरिंदगी, ऑटो चालक ने मदद के बहाने किया दुष्कर्म...

खबर के अनुसार शुक्रवार को ही चारों दोषियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि इस केस से जुड़ा एक मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। इसलिए जब तक वहां मामले का निपटारा नहीं हो जाता तब तक लोअर कोर्ट सुनवाई नहीं करेगा। पटियाला हाउस कोर्ट ने सुनवाई 18 दिसंबर तक टाल दी है। 

दोषियों को फांसी दी जाए

जानकारी के अनुसार शुक्रवार को निर्भया की मां आशा देवी ने शीर्ष अदालत का रुख कर मौत की सजा पाए चार दोषियों में से एक की पुनर्विचार याचिका का विरोध किया। इस पर 17 दिसंबर को सुनवाई की जाने की बार बताई जा रही हैं।  जानी है। 

सूत्रों के अनुसार निर्भया की मां ने दोषियों को जल्द से जल्द सजा देने की मांग की है। उन्होंने कहा, 'दोषियों को सजा दिलाने के लिए मैंने सात साल का लंबा इंतजार किया है। ऐसे में मैं सात दिन और रुक सकती हूं। मैं न्याय के लिए लगातार लड़ती रहूंंगी। 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From crime

Trending Now
Recommended