संजीवनी टुडे

एक साथ उठी पति-पत्नी, बेटे और बेटी की अर्थियां, गमगीन हुआ हर शख्स

संजीवनी टुडे 08-06-2019 21:59:31

जिले के मांडल उपखंड के मालखेड़ा में शनिवार शाम को एक साथ चार अर्थी उठने से पूरे गांव में मातम छा गया। हर कोई शुक्रवार को हुई हृदयविदारक घटना में पति, पत्नी और उनके दो मासूम बेटे-बेटी की मौत के बाद सदमे में था।


भीलवाड़ा। जिले के मांडल उपखंड के मालखेड़ा में शनिवार शाम को एक साथ चार अर्थी उठने से पूरे गांव में मातम छा गया। हर कोई शुक्रवार को हुई हृदयविदारक घटना में पति, पत्नी और उनके दो मासूम बेटे-बेटी की मौत के बाद सदमे में था। शनिवार को जब चारों शव मांडल अस्पताल से पोस्टमार्टम के बाद मालका खेड़ा पहुंचे तो माहौल मातमी हो गया। परिजनों की चित्कार फूट पड़ी। इसके बाद एक ही परिवार के पति-पत्नी, बेटा-बेटी की अर्थी एक साथ उठी तो पूरे मोहल्ले के साथ शवयात्रा को देखने वालों की आंखें नम हो गईं। वहां मौजूद हर शख्स गमगीन दिखाई दिया। शव यात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। 

एक ही चिता पर चारों शवों का दाह-संस्कार-माल का खेड़ा से पति, पत्नी, बेटे और बेटी की शव यात्रा घर से श्मशान पहुंची। जहां गमगीन माहौल में चारों शवों का एक ही चिता पर दाह-संस्कार किया गया। इस दौरान पुलिस अधिकारी भी मौजूद थे। मृतक रतनी के भाई ने बहन का शव अंतिम संस्कार के लिए अपने गांव ले जाने की जिद की, लेकिन पुलिस उपाधीक्षक जगदीश सिंह व थानाधिकारी गजेन्द्र सिंह और समाजजनों के समझाने पर वह मान गया। इसके बाद माल का खेड़ा में चारों शवों का अंतिम संस्कार किया। सब इंस्पेक्टर कानसिंह ने बताया कि इस हृदयविदारक घटना को लेकर मृतक सुरेश के पिता उदयलाल माली ने पुलिस को रिपोर्ट दी। इसमें बेटे-बहू के फांसी लगाकर जान देने की बात कही। उदयलाल ने अपने बेटे-बहू का किसी से कोई विवाद नहीं बताया और न ही किसी तरह की परेशानी होने की बात कही। सुरेश व उसकी पत्नी रतनी के मासूम बेटे-बेटी की जान लेकर खुद फंदे से झूलकर जान दे देने का मामला दूसरे दिन भी अनसुलझी पहेली बनी है। अभी तक पुलिस, मृतक के परिजनों और ग्रामीणों की ओर से ऐसा कोई बयान नहीं आया, जिससे कि इस घटना से पर्दा उठ सके। पुलिस इस मामले की गुत्थी सुलझाने के प्रयास में जुटी है। 

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार शाम माल का खेड़ा गांव निवासी सुरेश माली (30), उसकी पत्नी रतनी, बेटे योगेश और पांच वर्षीय बेटी पायल के साथ शुक्रवार दोपहर अपने कमरे में सोये थे। शाम तक इनमें से कोई भी कमरे से बाहर नहीं आया। सुरेश की मां ने आवाज दी, लेकिन अंदर से न तो कोई जवाब आया और न ही कोई हलचल सुनाई दी। मां ने कमरे में देखा तो उसकी चित्कार फूट पड़ी। बेटा सुरेश व बहू रतनी फंदे से झूलते दिखाई दिये। चीख-पुकार सुनकर परिजन और आस-पास के लोग वहां पहुंच गये। कमरे में देखा तो सुरेश का बेटा योगेश और बेटी पायल जमीन पर मृत पड़े थे। पुलिस का कहना है कि निर्दयी दंपती अपनी बेटी और बेटे की गला घोंटकर हत्या करने के बाद फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली थी।

मात्र 220000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188

More From crime

Trending Now
Recommended