संजीवनी टुडे

शादी समारोह में चोरी की वारदात करने वाले एक ही गैंग के सात लोग गिरफ्तार

संजीवनी टुडे 04-12-2020 20:10:01

शादी समारोह में चोरी की वारदात करने वाले एक ही गैंग के सात लोग गिरफ्तार


नई दिल्ली। शादी समारोह में चोरी की वारदात करने वाले एक गैंग का खुलासा हुआ है। क्राइम ब्रांच ने इस सिलसिले में दो नाबालिग समेत सात लोगों को पकड़ा है। यह गैंग बच्चों को उनके अभिभावकों से एक साल के लिए लीज पर लेकर चोरी करवाता था। इसके बदले बच्चे के घरवालों को दो या इससे ज्यादा किस्त में दस से बारह लाख रुपए अदा किए जाते थे। बकायदा, चोरी कराने से पहले बच्चों को ट्रेंड किया जाता, उन्हें खानपान से लेकर बढ़िया कपड़े पहनने के तौर तरीके सीखाए जाते थे। अब तक की पूछताछ में पुलिस ने दावा किया दिल्ली, लुधियाना, जिरकपुर और चंडीगढ में शादी समारोह के दौरान हुई चोरी की आठ वारदातें सुलझा ली गयी हैं। 

पुलिस ने आरोपियों के पास से चोरी की रकम से चार लाख रुपए, एक सिल्वर का सिक्का और दो बैग बरामद किए हैं। आरोपियों की पहचान संदीप, हंसराज, संत कुमार, किशन व बॉबी हैं। जबकि दो आरोपी नाबालिग हैं। क्राइम ब्रांच के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त ने बताया एनसीआर में शादी समारोह में चोरी की कई घटनाएं सामने आ चुकी थीं। एसटीएफ एसीपी पंकज सिंह की टीम को विशेष रुप से इन केसों की जांच में लगाया गया था। जिन्होंने कई शादियों की वीडियो फुटेज का विश्लेषण किया। 

सीसीटीवी फुटेज और वीडियो फुटेज देखने के बाद पुलिस ने दो नाबालिग समेत तीन संदिग्धों की पुलिस ने पहचान की। जांच में पुलिस ने पाया शादी के समारोह स्थल पर नाबालिग बेहद बढिया कपड़े पहनकर वहां पहुंचे, वे न केवल खाना खाते हैं बल्कि वारदात का सही वक्त का इंतजार करते हैं। मौका मिलते ही वे गिफ्ट बैग, शगून, ज्वेलरी कैश चोरी कर वहां से निकल जाते हैं। आरोपियों के बारे में जानकारी जुटाने के बाद पुलिस ने राजगढ के तीन गांव गुलखेरी, सुलखेरी और कडिया में जाकर आरोपियों की पहचान की।  यह गैंग राजगढ़ जिला मध्यप्रदेश से ऑपरेट होता है, जिसके सदस्य बैंकेट हॉल और फार्महाउस में हो रही शादी के दौरान चोरी करते थे। दो दिसम्बर को पुलिस ने इस गैंग के सभी सदस्यों को पकड़ लिया। 

आरोपियों ने पूछताछ में खुलासा किया वे नौ से पंद्रह साल के बच्चों को उनके परिजनों से लीज पर एक साल के लिए लेते थे। इसे बदले उन्हें दस से बारह लाख रुपए दिए जाते थे। इन बच्चों को दिल्ली लाकर चोरी की वारदात करने से लेकर तमाम तरह की ट्रेनिंग दी जाती थी। आरोपियों ने बताया कापसहेड़ा, मायापुरी, मोती नगर में तीन वारदात के अलावा पंजाब और चंडीगढ में चोरी की वारदातें कर चुके हैं। यहां दिल्ली में आकर वे किराए के मकान में रहते थे। आरोपियों में संदीप गैंग का सरगना है जो साल 2010 से अपराधिक गतिविधियों में लिप्त है। सभी आरोपी राजगढ़ मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं।

यह खबर भी पढ़े: नौसेना दिवस पर ​रक्षा मंत्री बोले- समुद्रों को सुरक्षित रखने में नौसेना सबसे आगे

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From crime

Trending Now
Recommended