संजीवनी टुडे

बिल्ला हत्याकांड में मुख्य आरोपी राजन कोचर बरी

संजीवनी टुडे 18-05-2018 09:17:35

नई दिल्ली। अनिल कुमार बिल्ला हत्याकांड में अदालत का बड़ा फैसला आया है। जज एस.के. गर्ग की अदालत ने मुख्य आरोपी राजन कोचर को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया है। इस मामले में पुलिस की भी बदनामी हुई है। राजन कोचर के खिलाफ अदालत में पुलिस  सबूत पेश नहीं कर पाई है।

बता दें कि 3 जून 2016 को अनिल कुमार बिल्ला की दिन-दिहाड़े प्रेस क्लब के पास गोलियां चलाई जिससे हत्या कर दी गई थी। हत्यारा जान-पहचान का बताया जा रहा है। हत्या करने से पहले हत्यारा बिल्ला की कार में जाकर बैठा था और सिर पर गोली मारकर बिल्ला की हत्या कर दी थी। पुलिस ने बिल्ला के तमाम मोबाइल कब्जे में लेकर कॉल डिटेल खंगाली थी और किन-किन से बिल्ला का बिजनैस था यह भी गहराई से जांचा गया मगर वह किसी खास नतीजे पर नहीं पहुंच पाई थी। बाद में 2 जुलाई को पुलिस ने इस केस में जे.के. टूल्स के पार्टनर राजन कोचर को गिरफ्तार कर लिया था। 


बिल्ला के कुछ परिजनों ने भी राजन कोचर के साथ अनिल बिल्ला के व्यापार की बात तो मानी थी। मगर कारोबारी रंजिश थी पर कुछ नहीं बोला था। इस पर पुलिस ने राजन कोचर को गिरफ्तार कर लिया था। ऐसे लग रहा था कि मीडिया के लगातार बढ़ते दबाव के बाद पुलिस ने इस केस को निपटाने के चक्कर में ट्रेस के खाते में डाल दिया था। 

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.40 लाख में call: 09314166166

MUST WATCH

थाना डिवीजन में अनिल बिल्ला के छोटे भाई राजेश कुमार के बयान पर पुलिस ने केस दर्ज किया जिसमें राजेश ने बताया कि बिल्ला पाल गारमैंट व फैक्टरी का काम करता था। बिल्ला रोजाना होटल रमाडा के जिम में सुबह 8 बजे जाता था। 3 जून 2016 को भी वह अपनी फॉच्र्यूनर गाड़ी, बीएमडबल्यू) में होटल रमाडा जिम के लिए निकला था। महज एक पेज की एफ.आई.आर. में पुलिस ने किसी तथ्य पर गंभीरता से काम नहीं किया था। यहां तक कि 3 जून 2016 को हुए मर्डर में एक जगह 3 फरवरी 2016 तक लिखा हुआ है। 

 

Rochak News Web

More From crime

Trending Now