संजीवनी टुडे

Lockdown: शराब न मिलने की वजह से पांच लोगों ने की आत्महत्या की कोशिश, एक की मौत

संजीवनी टुडे 29-03-2020 11:37:10

लॉकडाउन के दौरान कुछ चौंका देने वाली घटनाएं भी सामने आ रही हैं। केरल में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के इन पांच दिनों के दौरान कम से कम पांच लोग अब तक आत्महत्या की कोशिश कर चुके हैं।


नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते संकट को देखते हुए देशभर में 21 दिन का लॉकडाउन लागू किया गया है। इस दौरान कुछ चौंका देने वाली घटनाएं भी सामने आ रही हैं। केरल में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के इन पांच दिनों के दौरान कम से कम पांच लोग अब तक आत्महत्या की कोशिश कर चुके हैं। इनमें एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि बाकियों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतक की पहचान त्रिशूर के रहने वाले 35 वर्षीय सनोज के रूप में कई गई है। ये सभी शराब के आदी बताए जा रहे हैं, जिन्होंने लॉकडाउन के कारण शराब न मिल पाने के चलते ये कदम उठाया। वहीं इस बीच राज्य के सरकारी अस्पतालों में स्थापित नशामुक्ति केंद्रों और मानसिक स्वास्थ्य इकाइयों में लोगों की संख्या अचानक ही बढ़ गई। 

 केरल में पहली बार शराब पूरी तरह प्रतिबंधित

जानकारी के अनुसार केरल सरकार ने शराब को आवश्यक वस्तु की श्रेणी में रखते हुए लॉकडाउन के दौरान इसकी बिक्री जारी रखने को कहा था लेकिन विपक्ष के दबाव में उन्हें यह फैसला वापस लेना पड़ा। इसके बाद राज्य में शराब की सारी दुकानें बंद कर दी गईं। यह पहला मौका है जब राज्य में पूरी तरह से शराबबंदी लागू हुई है।

खबर के मुताबिक केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने कहा कि कुछ प्रमुख सरकारी अस्पतालों को COVID-19 के लिए नामित किया गया है, पारिवारिक स्वास्थ्य केंद्रों और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में शराब की लत वाले लोगों के इलाज की सुविधा उपलब्ध है, जहां मनोचिकित्सक भी उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि अगर कोई गंभीर मामला होता है, तो उसे जिला अस्पतालों में भेजा जा सकता है और शराब की लत के लिए प्रत्येक जिले में 20 बेड अलग से रखे गए हैं।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

शराब की लत छुड़ाने के लिए टेली काउंसलिंग

जानकारी के अनुसार राज्य के नशामुक्ति कार्यक्रम के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डी राजीव ने कहा, “हमने शराब की लत छुड़ाने के लिए तीन केंद्रों में टेली काउंसलिंग सुविधाओं की व्यवस्था की है। शनिवार को हमने मानसिक समस्याओं के साथ एक गंभीर स्थिति में लगभग 100 व्यक्तियों की पहचान की और जिन्हें तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता थी। सरकारी क्षेत्र में सुविधाओं के अलावा, हम सभी जिलों में निजी नशामुक्ति केंद्रों को की स्थापना का प्लान बना रहे हैं। 

यह खबर भी पढ़े:  बच्चों-बुजुर्गों को है कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा खतरा, ऐसे करें उनका बचाव

मात्र 289/- प्रति sq. Feet में जयपुर में प्लॉट बुक करें 9314166166

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From crime

Trending Now
Recommended