संजीवनी टुडे

दहेज हत्या मामले में जेठ-जेठानी को 11 साल की सजा, तथा मृतका के पत‍ि कोे...

संजीवनी टुडे 08-05-2019 14:16:23


बोकारो। बोकारो के अपर सत्र न्यायाधीश- द्वितीय जनार्दन सिंह की अदालत ने दहेज हत्‍या के मामले में आरोपित ज्ञानेन्द्र पांडेय और उनकी पत्नी रेणु पांडेय को दोषी मानते हुए 11-11 वर्ष का सश्रम कारावास तथा 10-10 हजार रुपये जुर्माना की सजा सुनाई। अदालत मृतका के पत‍ि कोे पहले ही सजा सुना चुकी है।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

बुधवार को मामले के अपर लोक अभियोजक आरके राय ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि मृतका की शादी 22.01.2006 को धर्मेन्द्र से हुई थी। उसके उपरांत पति धर्मेन्द्र, जेठ ज्ञानेन्द्र और जेठानी रेणु के एक एक्टिवा गाड़ी और दो लाख रुपये की मांग करते हुए उसे प्रताडित किया जाता रहा। 

22 जनवरी 2006 की शाम चार बजे मृतका के भाई जमशेदपुर निवासी अरविन्द उपाध्याय को उसकी बहन की तबीयत बहुत खराब होने की जानकारी दी गयी। यहां बारी को-आपरेटिव कालोनी में आकर अरविन्द ने अपनी बहन को दुपट्टे से पंखा से लटका पाया। उसका एक पैर बिछावन पर और एक पैर जमीन पर टिका हुआ पाया गया था। बीएस सिटी थाना ने शि‍कायत पर दहेज में मुकदमा दायर किया गया था।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने और गवाहों के आधार पर दाेेेनों को दहेज हत्‍या में दोषी पायात्र अदालत ने दोनों को 11 वर्ष के सश्रम कारावास तथा 10 हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई। विदित हो कि पूर्व में मृतका अर्चना पांडेय के पति धर्मेन्द्र पांडेय को सजा सुना चुकी है। बता दें कि आरोपी ज्ञानेन्द्र पांडेय बोकारो में कम्प्यूटर व इलेक्ट्रानिक्स सामानों के प्रसिद्ध कारोबारी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From crime

Trending Now
Recommended