संजीवनी टुडे

पहले टैक्सी बुक करता फिर लेकर हो जाता था फरार, गिरफ्तार

संजीवनी टुडे 06-08-2020 19:59:37

पहले टैक्सी बुक करता फिर लेकर हो जाता था फरार, गिरफ्तार


नई दिल्ली। बेगमपुर पुलिस ने एक यूनिक टैक्सी चोरी करने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया है। जो सिर्फ स्विफ्ट डिजायर कार को चोरी के फोन से बुक करता था। चालक के ठीक पीछे वाली सीट पर बैठता और पेट्रोल व डीजल के पाईप की मशीन का बटन बंद कर दिया करता था। बाद में चालक से कार में धक्का लगवाता और टैक्सी लेकर फरार हो जाता था। बाद में अपना ड्राइवर रखकर उनको चलवाया करता था। शातिर आरोपी की पहचान विशाल के रूप में हुई है। आरोपी के कब्जे से चार चोरी की स्विफ्ट डिजायर कार जब्त की हैं। जिसमें से एक जली कार है। आरोपी की निशानदेही पर एक अन्य चोरी की कार बरामद करवाने की कोशिश की जा रही है। जिसको उसने शाहबाद डेयरी इलाके में छुपा रखा था। जिसका नंबर वह भूल चुका है।

जिला पुलिस उपायुक्त प्रमोद कुमार मिश्रा ने बतााया कि 15 अगस्त की सुरक्षा को लेकर जिला में वाहनों की गहन चैकिंग की जा रही है। बेगमपुर एसएचओ जय भगवान गौतम की देखरेख में पुलिस टीम इलाके में वाहनों की चैकिंग कर रही थी। हेलीपैड रोड टी प्वाइंट के पास आरोपी विशाल को पकड़ा था। उसके कब्जे से पिस्टल,कारतूस और चोरी का मोबाइल फोन जब्त किया था। आरोपी की निशानदेही पर जली हुई स्विफ्ट कार समेत चार कारें जब्त की। आरोपी से पूछताछ करने पर पता चला कि छठी कक्षा तक पढ़ा है। उसकी अपनी ऑटो रिपेयरिंग शॉप थी। बाद में उसने अपनी स्विफ्ट डिजायर कार खरीदी और ऑन लाईन कंपनी में लगाकर खुद चलाने लगा। लेकिन कोरोना में काम चौपट हो गया था। वह स्विफ्ट डिजायर कार के बारे में पूरी जानकारी रखता है। पुलिस उपायुक्त ने बताया कि आरोपी विशाल चोरी का मोबाइल फोन किसी से खरीद लिया करता था। उसका नेट खोलने के बाद सिर्फ स्विफ्ट डिजायर टैक्सी बूक करता था। जब चालक उसके पास आता। उसको पहले ही बता दिया करता था। उसको काफी जल्दी है। 

वह टैक्सी में तेल देख ले। वह चालक के ठीक पीछे बैठ जाता था। चालक की सीट से पीछे की तरफ तेल की सप्लाई के बटन को बंद कर दिया करता था। जिससे तेल का मीटर शून्य दिखाता था। चालक जब मैकेनिक और पैट्रोल पंप देखता था। वह पहले टैक्सी में खुद धक्का लगाता था। बाद में चालक सीट पर बैठकर चालक से धक्का लगवाता था। इस बीच वह सप्लाई का बटन को शुरू कर दिया करता था। टैक्सी स्टार्ट होते ही फरार हो जाता था। बाद में टैक्सी के कागजात व नंबर प्लेट बदलकर अपने ड्राइवर से चलवाया करता था। जिसको वह प्रतिमाह 18 हजार रुपये दिया करता था। वह अभी अभी तीन टैक्सी चलवा रहा था।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From crime

Trending Now
Recommended