संजीवनी टुडे

बजाज फाइनेंस के कर्मचारी की मिलीभगत से कराए फर्जी लोन, पुलिस ने कजा शिकंजा

संजीवनी टुडे 15-07-2020 06:56:08

बजाज फाइनेंस के कर्मचारी की मिलीभगत से कराए फर्जी लोन, पुलिस ने कजा शिकंजा


गुना। फाइनेंस क्षेत्र में जानी-मानी कम्पनी बजाज एक बार फिर चर्चाओं में है। कम्पनी के एक कर्मचारी ने मोबाइल दुकान संचालक से मिलीभगत कर सात लोगों के दस्तावेज लगाकर फर्जी लोन बनवा दिए। जब इसका खुलासा हुआ तो पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपितों को गिरफ्तार किया। बाद में कोर्ट ने इन सभी को जेल भेज दिया है। जानकारी के अनुसार बजाज फाइनेंस का कर्मचारी शिवम यादव निवासी पवन कॉलोनी ने लक्ष्मीगंज में स्थित आर्य मोबाइल शॉप के संचालक की मिलीभगत से फर्जी दस्तावेज कम्पनी में भेजे। इनके आधार पर विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक सामान फाइनेंस करवा लिया गया। लेकिन आवेदकों को बाद में पता चला कि उन्होंने किसी तरह का सामान फाइनेंस करवाया ही नहीं। 

मीडिया सेल प्रभारी निर्मल कुमार अग्रवाल ने मंगलवार को बताया कि बजाज फानइेंस के मैनेजर संतोष वर्मा ने इसका खुलासा होने पर शिकायत दर्ज कराई। इसमें बताया गया कि वीरेंद्र किरार पुत्र मथुरालाल किरार, कपिल किरार पुत्र जगदीश किरार निवासीगण झागर थाना बमोरी द्वारा संरक्षक अरविंद किरार पुत्र रामस्वरूप किरार आर्य मोबाइल एंड इलेक्ट्रोनिक्स की दुकान के माध्यम से फर्जीवाड़ा किया। इस कृत्य में बजाज फाइनेंस का कर्मचारी शिवम यादव ने भी उनका साथ दिया और दस्तावेजों में हेराफेरी की। इनके द्वारा अवैध तरीके से लोन निकलवाया गया। 

जिन लोगों के नाम से लोन निकाले गए उनमें विनोद पुत्र मथुरालाल अहिरवार के नाम से 22 हजार की एलईडी, निरंजन सिंह पुत्र रामगोपाल धाकड़ के नाम से 36 हजार 490 की एलईडी, जमुनालाल पुत्र काशीलाल लोधा के नाम से 28 हजार की एलईडी, यशपाल सिंह पुत्र गुलाब सिंह चौहान के नाम से 30 हजार की एलईडी, जिनेश पुत्र बाबूलाल जैन के नाम से 65 हजार रुपये की एलईडी, परमानंद पुत्र हरिसिंह मीना के नाम से 32 हजार एलईडी, धिमन पुत्र देवपाल सिंह यादव के नाम से 28 हजार की एलईडी फाइनेंस करवा ली। हैरानी की बात यह रही कि जिन व्यक्तियों के नाम से लोन निकलवाए गए, उन्हें इसकी जानकारी ही नहीं थी। कम्पनी द्वारा जब वसूली के लिए इन लोगों से सम्पर्क किया गया, तो मामले का खुलासा हुआ। बाद में इन सभी के विरूद्ध शहर कोतवाली में अपराध क्रमांक 192/2020 पर अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया। पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

यह खबर भी पढ़े: कोरोना से बचाव के लिए रेलवे ने तैयार किया ‘पोस्ट कोविड कोच’, बिना हाथ लगाए बंद होगा टॉयलेट का गेट व नल

यह खबर भी पढ़े: बिकरु कांड : मुठभेड़ में मारे गए प्रभात को बहन ने बताया नाबालिग

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From crime

Trending Now
Recommended