संजीवनी टुडे

दिल्ली पुलिस ने जिगोलो के नाम पर ठगी करने वाला गिरोह धर दबोचा

संजीवनी टुडे 11-09-2018 16:37:43


डेस्क। भारत की राजधानी दिल्ली में जिगोलो बनाने के नाम पर ठगी करने वाले गैंग को पुलिस ने धर दबोचा है। जिगोलो शब्द उन युवकों के लिए इस्तेमाल किया जाता है जो पैसे लेकर अपने ग्राहक को शारीरिक तौर पर संतुष्ट करते हैं। आरोपियों से पुलिस ने 10 मोबाइल और कई सिम कार्ड बरामद किये है। गैंग में शामिल एक युवती व दो युवक और एक नाबालिग लड़की हिरासत में लिया गया है।  

 dv fgb

तीस हजारी पुलिस चौकी ने को लगातार शिकायत मिल रही थी की उन्हें मसाज पार्लर में काम दिलाने के बहाने ठगा गया है। यूवको ने  शिकयत में बताया की उन्हें हजारों रुपये रोजाना कमाने का ऑफर दिया गया था, लेकिन कभी मसाज पार्लर सेटअप तो कभी मसाज का महंगा तेल (ऑयल) खरीदने के बहाने सिक्यॉरिटी अमाउंट जमा करवाते रहे। उन्हें हमेशा एक युवती फोन पर संपर्क कर  ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करवाकर काम दिलाने के झांसा देते रहे 
 विरोध करने पर मोबाइल स्विच ऑफ क्र दिया जाता था।  

 dv fgb
सूत्रों के अनुसार सब इंस्पेक्टर नवीन ने बताय की यह गैंग फेक कॉल सेंटर के जरिए ऑपरेट करता था। जिगेलो के नाम पर ठगी की रकम लेने के लिए फेक आईडी पर अकाउंट खुलवाया गया था, लेकिन उस अकाउंट की डिटेल निकलवाई तो महत्वपूर्ण सुराग मिल गए। दरसल उस अकाउंट से पेटीएम अकाउंट में कैश ट्रांसफर हुआ था और बिजली के कुछ बिलों की पेमंट किया गया था। जब पुलिस ने उन बिजली बिलों के अड्रेस निकलवाकर पुलिस ने रोहिणी और सुलेमान किराड़ी गांव में रेड की। फेक कॉल सेंटर चलाने के आरोप में श्रीराम, आकाश और एक युवती को अरेस्ट किया। इसी गैंग में शामिल एक नाबालिग लड़की को भी हिरासत में लिया गया।

इस केस की जाँच अभी जारी है की कितनो के साथ ऐसे ठगी की गयी पर अभी पुलिस को सिर्फ चारों आरोपियों के अकाउंट को खंगाला है और पता चला कि वह कई लोगों को ठग चुके हैं। उन केसों के लिंक खंगाले जा रहे हैं।

2.40 लाख में प्लॉट जयपुर: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में Call:09314166166

MUST WATCH & SUBSCRIBE 

केरल बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए संजीवनी चेरिटेबल ट्रस्ट के जरिए सहायता कर सकते है

बैंक अकाउंट नं.: 27950200001157
IFSC Code: BARB0JAISAN
Paytm: 8005636210

पुलिस का कहना है की आमतौर पर सामान्य लोग समाज और पुलिस के डर से ठगी के शिकार होने पर पुलिस के पास शिकायत दर्ज नहीं करवाते हैं। 

More From crime

Trending Now
Recommended