संजीवनी टुडे

फर्जी दस्तावेजों से पैरोल पर आया हुआ आरोपी पुन: पहुंचा जेल, ऐसे हुआ संदेह

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 05-12-2019 20:59:53

फर्जी दस्तावेजों के आधार पर पिता को कैंसर का मरीज बता कर अदालत से पेरोल लेने वाला कुख्यात अपराधी विकास उर्फ बबलू अब पुन: जेल की सलाखों के पीछे पहुंच गया है।


जींद। फर्जी दस्तावेजों के आधार पर पिता को कैंसर का मरीज बता कर अदालत से पेरोल लेने वाला कुख्यात अपराधी विकास उर्फ बबलू अब पुन: जेल की सलाखों के पीछे पहुंच गया है। जेल उपाधीक्षक राकेश कुमार ने गत नौ सितम्बर को जींद सदर थाना पुलिस को दी गई शिकायत में कहा कि चाबरी गांव निवासी विकास उर्फ बिल्लू कुख्यात अपराधी है और हत्या समेत कुछ अन्य मामलों में उम्रकैद सजा काट रहा है। 

यह खबर भी पढ़ें:​ उन्नाव बलात्कार कांड पीड़िता को जिंदा जलाने पर देश भर में आक्रोश, कड़ी सजा देने की मांग की

विकास द्वारा अपने पिता रघबीर को कैंसर का मरीज बताते हुए उसके ईलाज हेतु लगाई गई याचिका पर पंजाब-हरियाणा उच्च न्यायालय ने उसे पांच जून से 17 अगस्त तक पैरोल दे दी थी। शिकायत में राकेश ने कहा कि पेरोल वह विकास की गतिविधियों पर नजर रख रहे थे और संदेह होने पर उन्होंने रघबीर के ईलाज की जांच शुरु की। इस दौरान सामने आया कि रघबीर कैंसर का मरीज नहीं है। विकास ने बुआना गांव निवासी कैंसर पीड़ित वजीर की बायोप्सी रिपोर्ट का सहारा लेकर रघबीर को कैंसर मरीज बनाया गया। रघबीर एक बार ईलाज के लिए बीकानेर कैंसर इंस्टीच्यूट भी गया था। विकास ने ये दस्तावेज भी वजीर की रिपोर्ट के साथ लगाए थे।

इस फर्जीवाड़े के सूत्रधार के रूप में विकास का चचेरा भाई जवाहर नगर हिसार निवासी नकुल का नाम सामने आया। विकास की फर्जी पैरोल का मामला जब पंजाब-हरियाणा उच्च न्यायालय के संज्ञान में लाया गया तो अदालत ने उसकी पेरोल रद्द कर दी और उसे पुन: जेल भेज दिया। पुलिस ने पिता को फर्जी कागजातों के आधार पर कैंसर का मरीज दिखाने को लेकर विकास उर्फ बिल्लू, उसके पिता रघबीर, चचेरे भाई नकुल, गांव बुआना निवासी वजीर के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From crime

Trending Now
Recommended