संजीवनी टुडे

बलात्कारी पिता को 10 वर्ष का कारावास

संजीवनी टुडे 05-12-2018 19:53:38


बालाघाट। बालाघाट न्यायालय के माननीय द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने लांजी थाना के सुलसुली चौकी अंतर्गत 20 जुलाई 2016 को सौतेले पिता द्वारा नाबालिग बेटी से बलात्कार के मामले में आरोपी पिता 46 वर्षीय जीवन पिता चमरू बोरकर को 10 वर्ष के कारावास और 2 हजार रूपये के अर्थदंड से दंडित करने का फैसला दिया है। मामले में अभियोजन की ओर से अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी कपिल कुमार डहेरिया ने पैरवी की थी।

सहायक जिला अभियोजन अधिकारी एवं मीडिया प्रभारी अखिल कुमार कुशराम ने बताया कि 20 जुलाई 2016 को नाबालिग अपनी मां के साथ पराहा लगाकर शाम को घर लौटी थी। जिसके बाद उसने चाय बनाकर अपने पिता को दी, किन्तु पिता जीवन बोरकर ने चाय नहीं पिकर खाना नहीं बनाने पर पत्नी और बेटी को मारने दौड़ा। जिससे बचने दोनो घर से निकालकर भागी लेकिन रास्ते में नाबालिग के गिर जाने के कारण पिता जीवन बोरकर ने नाबालिग बेटी को घसीटते हुए घर लाकर उसके साथ मारपीट की और इसी रात में सो रही बेटी के बिस्तर में पहुंचकर उसके साथ अश्लील हरकत करने लगा।

जब बेटी ने जागकर इसका विरोध किया तो उसे जान से मारने की धमकी देकर जीवन बोरकर ने अपनी बेटी के साथ बलात्कार किया। जिसकी जानकारी सुबह होने पर बेटी ने मां को दी। जिसके बाद मां-बेटी और ग्राम के चार-पांच लिखाने सुलसुली चौकी पहुंचे। जहां से वह लांजी थाना आये और यहां नाबालिग बेटी की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी सौतेले पिता जीवन बोरकर के खिलाफ मामला धारा 37़6 (2) एवं 323 सहित अन्य धाराओं के तहत अपराध दर्ज किया।

जिस मामले में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर मामले की संपूर्ण विवेचना उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय में पेश किया। जहां इस मामले में बुधवार को बालाघाट न्यायालय के माननीय द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को धारा 37़6 (2) में 10 वर्ष का सश्रम कारावास और एक हजार रूपये अर्थदंड एवं धारा 323 में 6 माह का कारावास एवं एक हजार रूपये के अर्थदंड से दंडित करने का फैसला दिया

जयपुर में प्लॉट: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

MUST WATCH & SUBSCRIBE 

 

है।

More From crime

Loading...
Trending Now
Recommended