संजीवनी टुडे

कांग्रेस का आंदोलन व व‍िरोध राजनीत‍िक कुंठा का व‍िफल प्रदर्शन : सांसद सोनी

संजीवनी टुडे 26-09-2020 13:51:18

छत्‍तीसगढ़ भारतीय जनता पार्टी ने केंद्र सरकार द्वारा संसद में पारित कृषि सुधार विधेयकों के ख़िलाफ़ कांग्रेस के आंदोलन और भारत बंद को वैचारिक दरिद्रता से उपजी राजनीतिक कुंठा का विफल प्रदर्शन बताया है।


रायपुर। छत्‍तीसगढ़ भारतीय जनता पार्टी ने केंद्र सरकार द्वारा संसद में पारित कृषि सुधार विधेयकों के ख़िलाफ़ कांग्रेस के आंदोलन और भारत बंद को वैचारिक दरिद्रता से उपजी राजनीतिक कुंठा का विफल प्रदर्शन बताया है। भाजपा ने कहा कि कृषि विधेयकों का विरोध करके कांग्रेस ने एक बार फिर अपने दोहरे राजनीतिक और किसान विरोधी चरित्र का ही परिचय देते हुए यह साबित कर दिया है कि किसानों के नाम पर कांग्रेस केवल राजनीति करती आई है और किसानों के बेहतर भविष्य की बात तो न उसने कभी सोची और न ही वह किसानों का भला कर सकती है।

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष व सांसद सुनील सोनी ने शन‍िवार को बयान जारीकर कांग्रेस के विरोध-प्रदर्शन पर तीखा हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस इस मुद्दे पर ख़ुद ही झूठी और भ्रमित हो रही है और यह सूझ ही नहीं रहा है कि कृषि विधेयकों पर आख़िर वह क्या रुख अपनाए? सोनी ने कहा कि पंजाब में उसका नज़रिया इन विधेयकों को लेकर अलग है तो मध्यप्रदेश में वह मंडी टैक्स के मुद्दे पर आढ़तियों-दलालों के साथ खड़ी है, छत्तीसगढ़ में वह मंडी टैक्स ख़त्म करने को तैयार नहीं है और अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कृषि विधेयकों को लागू नहीं करने और इसे लेकर कोर्ट तक जाने की बात कहकर एक बार फिर अपने किसान विरोधी होने का प्रमाण ख़ुद ही दे चुके हैं। 

सांसद ने कहा कि कर्ज़माफ़ी और बकाया बोनस भुगतान के मामले में राजनीतिक कुटिलता का प्रदर्शन कर वादा ख़िलाफ़ी करने वाली प्रदेश सरकार ने पिछले खरीफ सत्र में धान ख़रीदी के नाम पर किसानों के आत्म-सम्मान के साथ जिस तरह क्रूर खिलवाड़ किया और समर्थन मूल्य की राशि का किश्तों में भुगतान कर किसानों को खून के आँसू रुला रही है, उस कांग्रेस और प्रदेश सरकार से किसानों के हित में पारित केंद्र सरकार के विधेयकों का विरोध करके मानसिक दीवालियापन का परिचय देने की ही अपेक्षा की जा सकती है। 

भाजपा सांसद सोनी ने कहा कि संसद में पारित कृषि विधेयकों में जो प्रावधान हैं, कांग्रेस ख़ुद सन 2013 में इसका आश्वासन दे रही थी और बाद में कांग्रेस ने इसे अपने चुनाव घोषणा पत्र में वादे के तौर पर शामिल किया था। संसद में संप्रग शासनकाल के दौरान संसद में हुई चर्चा के दौरान कांग्रेस सांसद कपिल सिब्बल समेत कई दिग्गज नेताओं ने इन प्रावधानों की जी-भरकर सराहना की थी। सांसद ने कटाक्ष किया कि जो प्रावधान कांग्रेस को अपने शासनकाल में किसान-हितैषी व क्रांतिकारी लग रहे थे, वही प्रावधान अब कांग्रेस को काला क़ानून क्यों लगने लगे हैं? कहीं कांग्रेस इसे काला क़ानून बताकर अपनी काली कमाई के रास्ते बंद होने का मातम तो नहीं मना रही है? 

श्री सोनी ने कहा कि कृषि सुधार विधेयकों को लेकर कांग्रेस एक बार फिर राफेल विमान सौदे की तर्ज पर ही झूठ और भ्रम फैलाने में लगी है। ज़ाहिर है कांग्रेस इस मुद्दे पर भी मुँह की खाएगी। शुक्रवार को भारत बंद और विरोध प्रदर्शन में किसानों की कोई सहभागिता नहीं होना इस बात का प्रमाण है कि किसान कांग्रेस के बहकावों में क़तई नहीं आ रहा है। अब भाजपा के कार्यकर्ता किसानों तक पहुंचकर कांग्रेस की असलियत सामने लाएंगे।

यह खबर भी पढ़े: IPL 2020/ चेन्नई सुपर किंग्स को हराने के बाद कप्तान श्रेयस अय्यर दे दिया बड़ा बयान, शिखर धवन को लेकर कह डाली ऐसी बात

यह खबर भी पढ़े: ड्रग केस में दीपिका का बड़ा कबूलनामा, ड्रग्स चैट की बात को किया स्वीकार

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From chhattisgarh

Trending Now
Recommended