संजीवनी टुडे

सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड की परीक्षाएं शुरू, व्हाट्सएप पर पेपर लीक का मामला आया सामने

संजीवनी टुडे 14-02-2019 16:37:32


एजुकेशन डेस्क। सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड ऑफ असम (सेबा) की हाईस्कूल और हाई मदरसा की परीक्षाएं गुरुवार से शुरू हो गईं। इस बार राज्य में 857 परीक्षा केंद्रों पर कुल 3,52,143 परीक्षार्थी हिस्सा ले रहे हैं। शांतिपूर्ण परीक्षा आयोजित कराने तथा नकल पर लगाम कसने के लिए परीक्षा केंद्रों के आसपास 50 मीटर के दायरे में धारा 144 लागू किया गया है। संवेदनशील इलाकों में फ्लाइंग स्कॉट को तैनात किया गया है।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

विद्यार्थियों के जीवन में हाईस्कूल की परीक्षा बेहद अहम होती है। इसको लेकर विद्यार्थी और अभिभावक परेशान दिखे। गुरुवार की सुबह 09 बजे से हाई स्कूल और हाई मदरसा की परीक्षाएं आरंभ हुई। सुबह ही अभिभावक बच्चों को लेकर परीक्षा केंद्रों पर पहुंच गए। परीक्षा समाप्त होने तक अभिभावक केंद्रों के बाहर तीन घंटे तक डटे रहे। जैसे ही परीक्षार्थी बाहर निकले तो अभिभावकों के चेहरे पर सकून दिखी। प्रश्नपत्र को लेकर विद्यार्थी और अभिभावक चर्चा करते दिखे।

पहले दिन की परीक्षा के दौरान नगांव जिले के बटद्रवा स्थित जातीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के परीक्षा केंद्र से प्रश्न पत्र वितरित किए जाने के 35 मिनट के बाद व्हाट्सएप के जरिए अंग्रेजी विषय का प्रश्न पत्र लीक होने का मामला सामने आया है। अभिभावकों ने आरोप लगाया है कि विद्यालय के प्रधानाचार्य मंजूल कटकटी ने प्रश्न पत्र को लीक किया है। फिलहाल, सेबा इस मामले की जांच कर रही है। इधर, विद्यालय के शिक्षकों का कहना है कि परीक्षा केन्द्र से प्रश्न पत्र लीक नहीं हुआ है। यह एक साजिश है।

उल्लेखनीय है कि सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड ऑफ असम (सेबा) की ओर से इस बार सभी परीक्षा कक्षों में सीसीटीवी कैमरा लगाना अनिवार्य किया गया है। जिस परीक्षा कक्ष में सीसीटीवी कैमरा नहीं होगा, वहां परीक्षाएं आयोजित नहीं कराई जाएंगी। कॉपियों में विसंगतियों को दूर करने के लिए सेबा ने पहली बार बॉरकोड का इस्तेमाल किया है। परीक्षार्थियों को उत्तर पुस्तिकाओं में काले रंग की स्याही का इस्तेमाल करने का निर्देश दिया गया है। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

परीक्षा हॉल के अंदर मोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक घड़ी ले जाने पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। इतना ही नहीं परीक्षा केंद्रों में जैमर की भी व्यवस्था की गई है, ताकि कोई भी व्यक्ति इलेक्ट्रॉनिक संदेशों का आदान-प्रदान न कर पाए।

More From career

Trending Now
Recommended