संजीवनी टुडे

सरकारी स्कूलों के संलग्रीकरण रद्द करने से हुई शिक्षकों की कमी, व्यवस्था को पटरी पर लाने में जुटा प्रशासन

संजीवनी टुडे 29-06-2019 18:55:51

शिक्षकों के संलग्रीकरण रद्द करने से कई स्कूलों में वीरानी छा गई है। व्यवस्था को पटरी पर लाने की कोशिश में जुटा जिला प्रशासन सोमवार तक शिक्षकों के संलग्नीकरण खत्म करने से जुड़ी दूसरी सूची जारी करेगा।


शिक्षा डेस्क। शिक्षकों की कमी से जूझ रहे जिले के सरकारी स्कूलों में शैक्षणिक व्यवस्था को पटरी पर लाने की कोशिश में जुटा जिला प्रशासन सोमवार तक शिक्षकों के संलग्नीकरण खत्म करने से जुड़ी दूसरी सूची जारी करेगा। शिक्षकों के संलग्रीकरण रद्द करने से कई स्कूलों में वीरानी छा गई है और इन स्कूलों में संलग्न रहे शिक्षक अपने मूल स्थान को सेवायें देने लगे हैं। इससे कई विकासखंडों की स्कूलों में शिक्षकों के वापस लौट जाने से उन स्कूलों की अध्यापन व्यवस्था चरमरा गई है और विद्यार्थियों को उचित अध्यापन नहीं मिल रहा है।

उल्लेखनीय है कि बस्तर जिले में हर्राकोडेर और चेराकुर हाईस्कूल के साथ ही करीब तीन दर्जन से ज्यादा ऐसे स्कूल हैं, जो बंद हो सकते हैं। इसका एकमात्र कारण है कि संलग्नीकरण को समाप्त कर दिए जाने से उन स्कूलों में संलग्न किए गए शिक्षकों को मूल संस्थाओं में वापस भेज दिया गया है। वहीं लंबे समय से शिक्षकविहीन चल रहे मूल संस्थाओं में शिक्षकों की आमद भी हो गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार संलग्नीकरण में सबसे ज्यादा प्रभावित चार ब्लॉक रहे हैं, जिनमें बस्तर, बकावंड, तोकापाल और जगदलपुर शामिल हैं। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

शहर में कई जगहों पर शिक्षकों की वापसी हो जाने से विषय पढ़ाने अब दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है। जिला शिक्षा अधिकारी एचआर सोम ने बताया कि दूसरी सूची तैयार की जा रही है, जिसमें शिक्षण व्यवस्था को बनाए रखने का प्रयास किया जा सके। 

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From career

Trending Now
Recommended