संजीवनी टुडे

'Lockdown' के दौरान भारत में बेरोजगारी दर बढ़ी और श्रम भागीदारी दर घटी, जानें CMIE की रिपोर्ट?

संजीवनी टुडे 02-06-2020 03:01:00

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) की रिपोर्ट के मुताबिक 31 मई को खत्म हुए सप्ताह में भारत की बेरोजगारी दर 23.48% पर पहुंच गई है, ये अप्रैल में 23.52% से थोड़ी कम है।


नई दिल्ली। कोरोना वैश्विक महामारी के चलते देशभर में लॉक डाउन जारी है, जिससे देश में बेरोजगारी दर में बढ़ोतरी हो रही है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) की रिपोर्ट के मुताबिक 31 मई को खत्म हुए सप्ताह में भारत की बेरोजगारी दर 23.48% पर पहुंच गई है, ये अप्रैल में 23.52% से थोड़ी कम है। 24 मई को खत्म हुए सप्ताह में बेरोजगारी दर 24.3% और श्रम भागीदारी दर 38.7 प्रतिशत थी।

दरअसल, लॉकडाउन के दौरान के पिछले 8 सप्ताह के दौरान की औसतन 24.2 प्रतिशत बेरोजगारी दर से भी अधिक थी, जो 24.3% है। वही, 24 मई को खत्म हुए सप्ताह में श्रम भागीदारी दर 38.7 प्रतिशत थी। पूर्ववर्ती सप्ताह में यह 38.8 प्रतिशत से कम थी। श्रमिक भागीदारी दर में यह गिरावट तीन सप्ताह की निरंतर वृद्धि के बाद आती है। जबकि लॉकडाउन के दौरान बेरोजगारी दर लगभग 24 प्रतिशत स्थिर रही है। बेरोजगारी दर मार्च में 8.8 प्रतिशत से बढ़कर अप्रैल में 23.5 प्रतिशत हो गई थी। शहरी और ग्रामीण क्षत्रों में लगातार बेराजगारी दर बढ़ रही है।

According to the CMIE report  Indias unemployment rate reached 2348 and labor participation rate 387 in the week ending 31 May

जनवरी 2020 में शहरी बेरोजगारी दर 9.70 फीसदी थी, जो मई में 16.09 फीसदी बढ़कर 25.79 फीसदी पर पहुंच गई। ठीक इसी तरह, जनवरी 2020 में ग्रामीण बेरोजगारी दर 6.06 फीसदी थी, जो मई में 16.42 फीसदी बढ़कर 22.48 फीसदी पर पहुंच गई। दूसरी ओर, श्रम भागीदारी दर मार्च में 41.9 प्रतिशत से 6.3 प्रतिशत घटकर अप्रैल में 35.6 प्रतिशत हो गई। श्रम भागीदारी दर (LPR) महीने में लगभग सप्ताह-दर-सप्ताह बढ़ रहा है। 17 मई को खत्म हुए सप्ताह के दौरान यह 38.8 प्रतिशत तक पहुंच गया।

ऐसा लगता है कि तकनीकी रूप से अप्रैल में श्रम के एक बड़े हिस्सा ने बाजार को छोड़ दिया था, वो वापस लौट रहा है। सीएमआईई के उपभोक्ता पिरामिड घरेलू सर्वेक्षण की जानकारी के मुताबिक अप्रैल में श्रम बल 68 मिलियन गिरकर 437 मिलियन तक पहुंच गया, जो अप्रैल में 2019-20 में 369 मिलियन हो गया था। इन 68 मिलियन ने सक्रिय रूप से नौकरियों की तलाश बंद कर दी थी। रोचक बात ये है कि उन्होंने नौकरियों में रुचि नहीं दिखाई। सीएमआईई की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार द्वारा लगाए गए लॉकडाउन को आसान करने के बाद मई में लगभग 20 मिलियन (2 करोड़) लोग नौकरी पर वापस लौटे हैं। जिससे भारत की रोजगार दर मई में 2% बढ़कर 29% पर पहुंच गई, जो अप्रैल में 27% थी।

CMIE के अनुमान के मुताबिक 25 मार्च शुरू हुए लॉकडाउन की वजह से देश के 122 मिलियन (करीब 12.20 करोड़) लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ा है। CMIE के अनुसार, मई में सप्ताह के बाद श्रम भागीदारी दर (LPR) बढ़ रही है, 17 मई को खत्म हुए सप्ताह में ये 38.8% रही थी। देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1,90,622 हो गई है। इनमें 93,348 की रिपोर्ट पॉजीटिव है। वहीं 91,855 संक्रमित ठीक हो गए हैं। देश में अब तक कोरोना से मरने वालों की संख्या 5,408 हो चुकी है। ये आंकड़े covid19india.org के अनुसार हैं।

यह खबर भी पढ़े: भाजपा नेता उड़ा रहे लॉकडाउन के नियमों की धज्जियाँ, कार्यकर्ताओं संग मनाया सरकारी इमारत में जन्मदिन

यह खबर भी पढ़े: महिला ने कुंए में लगाई छलांग, परिवारिक कलह से उबकर मौत को लगाया गले

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From business

Trending Now
Recommended